लाइफ स्टाइल

लिवर और किडनी को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार हैं ये योगासन

Mahima Marko
16 Jun 2022 6:36 AM GMT
लिवर और किडनी को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार हैं ये योगासन
x
रक्त की शुद्धता और शरीर से विषाक्तता को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, ऐसे में इन अंगों में होने वाली समस्याओं का शरीर पर कई प्रकार से दुष्प्रभाव हो सकता है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। शरीर के बेहतर स्वास्थ्य के लिए सभी अंगों का सुचारू रूप से कार्यरत रहना आवश्यक माना जाता है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में जीवनशैली और आहार से संबंधित गड़बड़ी के कारण कई अंगों से संबंधित समस्याएं काफी बढ़ती हुई देखी जा रही हैं। विशेषकर पिछले कुछ वर्षों में लिवर और किडनी से संबंधित रोगियों के मामले काफी तेजी से बढ़े हैं। ये दोनों अंग शरीर में कई प्रकार के हार्मोन्स के नियमन, रक्त की शुद्धता और शरीर से विषाक्तता को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, ऐसे में इन अंगों में होने वाली समस्याओं का शरीर पर कई प्रकार से दुष्प्रभाव हो सकता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, सभी लोगों को आहार और दिनचर्या पर विशेष ध्यान देते रहना चाहिए। इससे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के साथ लिवर औऱ किडनी से संबंधित दिक्कतों को कम करने में भी मदद मिलती है। योगासन लिवर के कार्यों को आसान बनाने के साथ फैटी लिवर जैसी समस्याओं के जोखिम तक कम कम करने में मदद कर सकते हैं।
आइए ऐसे ही कुछ योगासनों के बारे में जानते हैं जो लिवर-किडनी को स्वस्थ बनाए रखने में आपकी मदद कर सकते हैं?
कपालभाति प्राणायाम से लिवर को फायदा
कपालभाति प्राणायाम, सांस लेने का अनूठा अभ्यास है जो लीवर सिरोसिस, पीलिया, हेपेटाइटिस और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। योग विशेषज्ञ बताते हैं कि कपालभाति प्राणायाम लिवर के कार्यों को उत्तेजित करने में मदद करने के साथ लीवर की विभिन्न समस्याओं को प्रभावी ढंग ठीक करने में सहायक है। किडनी की समस्या वाले लोगों को भी इससे लाभ मिलता है।
नौकासन योग से होने वाले लाभ
नौकासन योग का नियमित अभ्यास गुर्दे की बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए काफी लाभकारी हो सकता है। किडनी के कार्यों को आसान बनाने और इससे संबंधित तमाम तरह के रोगों के जोखिम को कम करने के लिए नौकासन योग का नियमित अभ्यास करना लाभप्रद हो सकता है।
योगासनों की आदत किडनी रोग के शिकार लोगों की जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ किडनी को स्वस्थ रखने में आपके लिए काफी मददगार हो सकता है।
मत्स्यासन योग से मिलेगा लाभ
मत्स्यासन योग के अभ्यास की आदत बनाकर भी आप किडनी की समस्याओं को कम कर सकते हैं। यह थायरॉयड ग्रंथि को सक्रिय करने के साथ विशुद्धि चक्र को उत्तेजित करने और हार्मोन्स को संतुलित करने वाला अभ्यास है। फैटी लिवर की समस्याओं से परेशान लोगों के लिए भी मत्स्यासन योग के नियमित अभ्यास को काफी लाभप्रद माना जाता है। योगासनों को दिनचर्या में शामिल करके आप कई तरह से लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta