राजस्थान

सरिस्का के जंगल में रात में बाघों का हुआ प्रवास, मीडिया से डरते रहे सरिस्का के अफसर

Admin Delhi 1
17 Oct 2022 9:29 AM GMT
सरिस्का के जंगल में रात में बाघों का हुआ प्रवास, मीडिया से डरते रहे सरिस्का के अफसर
x

अलवर न्यूज़: पहली बार सरिस्का के जंगल में रात में बाघों का प्रवास हुआ। टाइगर 113 को रणथंभौर के जंगल से बहला-फुसलाकर अलवर लाया गया। नए बाघ का प्रवास यहां दोपहर 12.15 से 12.30 बजे के बीच तलवृक्ष रेंज में किया गया। इस बीच अधिकारी भी मीडिया से बचते रहे। दरअसल, उन्हें पहले से ही लगा था कि उन्हें टाइगर को मीडिया के सामने शिफ्ट नहीं करना चाहिए। दो-तीन मीडियाकर्मी जब वहां पहुंचे तो अधिकारी उनसे उलझ गए। वजह यह है कि 2019 में पलायन के महज 2 महीने बाद टाइगर एसटी 16 की मौत हो गई। जिसमें अधिकारियों ने दो कारण माने। सरिस्का ने कहा कि रणथंभौर से एक बीमार बाघ को भेजा गया था। एक अन्य कारण जो प्रकाश में आया वह यह था कि अलवर पहुंचने पर बीमार बाघ के इलाज के लिए ट्रैंक्विलाइज़र की अधिक मात्रा हो गई। कौन मर गया। बाद में मौत का कारण गर्मी में अत्यधिक गर्मी को माना गया। जिससे कोई लापरवाही नहीं दिखाई गई। मीडिया को कवरेज से दूर रखा गया।

दोपहर 2.30 बजे रणथंभौर में टाइगर 113 को बेहोश किया गया। वहां से सड़क मार्ग से लाया गया था। रात करीब 10 बजे टाइगर सरिस्का पहुंचे। यहां से ताड़ के पेड़ों के अंदर की सीमा तक पहुंचने में करीब 2 घंटे का समय लगा। इसके बाद बाघ को वहां बनी करीब 8 बीघा जमीन के घेरे में दोपहर 12.15 से 12.30 बजे के बीच ले जाया गया।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta