Top
लाइफ स्टाइल

वैज्ञानिकों का मानना- ये 5 आदतें आपकी स्पाइन को पहुंचा सकती हैं नुकसान

Gulabi
22 Feb 2021 5:01 PM GMT
वैज्ञानिकों का मानना- ये 5 आदतें आपकी स्पाइन को पहुंचा सकती हैं नुकसान
x
21 वीं सदी में पीठ की समस्याएं आम होती जा रही हैं, जो कि आमतौर पर एक गतिहीन जीवन शैली

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। 21 वीं सदी में पीठ की समस्याएं आम होती जा रही हैं, जो कि आमतौर पर एक गतिहीन जीवन शैली, नए गैजेट्स और उन पर लगातार चिपके रहने के कारण होती हैं। खराब मुद्रा और पुराने दर्द के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन वैज्ञानिक कुछ ऐसे कारणों का खुलासा कर रहे हैं, जिनसे आप अभी तक अनजान होंगी।

उदाहरण के लिए, क्या आप जानती हैं कि आपकी नौकरी पुरानी पीठ दर्द का प्रमुख कारण हो सकती है? आराम की कमी भी आपकी मुद्रा को प्रभावित करती है।
हम यहां आपको उन सबसे लोकप्रिय आदतों के बारे में बता रहे हैं, जिनको लेकर वैज्ञानिकों का मानना है कि वह पुराने पीठ दर्द का कारण हैं।
1. सर्केडियन रिदम का विघटन
शोधकर्ताओं ने पाया कि इंटरवर्टेब्रल डिस्क में कोशिकाओं की स्थिति सीधे इस बात पर निर्भर करती है कि आपका दिन और रात का चक्र (day and night cycle) कितना स्थिर है।
वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि जब हमारी सर्कैडियन लय बाधित होती है (उम्र, पुरानी अनिद्रा और रात की शिफ्ट के कारण), तो ये कोशिकाएं ख़राब होने लगती हैं, जिससे सूजन हो जाती है और हमारी पीठ के निचले हिस्से में दर्द और इंटरवर्टेब्रल डिस्क के विकास में कमी होने की आशंका बढ़ जाती है।
अन्य अध्ययनों से पता चला है कि हमारे शरीर में कुछ नेचुरल एंटी-इन्फ्लेमेटरी रसायन दिन के दौरान बेहतर रूप से उत्पादित होते हैं।
तो अपनी रीढ़ की हड्डी की उम्र बढ़ने की गति को धीमा करने के लिए, आपको एक शेड्यूल का पालन करने की जरूरत है।
2. खड़े होकर काम करना
हम सभी ने सुना है कि बहुत देर तक बैठना हानिकारक है। लेकिन हर समय अपने पैरों पर रहने की आवश्यकता भी, आपके स्वास्थ्य के लिए उतनी ही खराब हो सकती है। सिर्फ खड़े रहने से आपकी गर्दन, रीढ़ और कंधों की स्थिति पर भारी असर पड़ सकता है।
जब रीढ़ की हड्डी की बात आती है, तो एक गलत आसन के भयानक परिणाम हो सकते हैं जिससे पुराने दर्द और गंभीर कर्वेचर्स (Curvatures) जैसी समस्या हो सकती है।
स्वस्थ रहने के लिए हमारी मांसपेशियों और जोड़ों को लचीलेपन की आवश्यकता होती है, और खराब मुद्रा पहले संकेतों में से एक है कि आप कुछ गलत कर रहे हैं।
अधिकांश समय, यदि आपका सिर या कंधे गलत स्थिति में हैं, तो इसका मतलब है कि आप अपने ऊपरी शरीर को अच्छी तरह से नियंत्रित नहीं कर रहे हैं।
यह कर्वेचर (Curvature) की ओर जाता है और आपके शरीर के मूवमेंट्स के दौरान खराब मुद्रा की क्षतिपूर्ति करता है। इससे शरीर पर और भी अधिक तनाव आता है।
खराब मुद्रा से बचने के लिए, हमें खड़े होना, बैठना, और एक तरह से लेटना चाहिए जो मांसपेशियों और लिगामेंट (ligaments) पर कम से कम तनाव डालता है और रीढ़ की हड्डी का समर्थन करता है, खासकर मूवमेंट्स और खेलने के दौरान।
3. पर्याप्त आराम नहीं करना
हम में से ज्‍यादातर महिलाएं पहले पहल इसके संकेतों पर ध्‍यान नहीं देती, जब तक कि वह गंभीर न हो जाए। हालांकि, जब भी आपको अपनी पीठ में थोड़ी सी भी तकलीफ महसूस हो तो आराम करना बहुत जरूरी है।
बेशक, आप हमेशा ऐसे समय में खुद को आराम करने की अनुमति नहीं दे सकतीं। लेकिन आपके पास जब भी समय हो आराम करना न भूलें।
अपनी मांसपेशियों पर अतिरिक्त तनाव को कम करने के लिए, अपने पैरों को ऊपर की ओर रखकर लेट जाएं।
4. बहुत अधिक मानसिक कार्य
कभी-कभी लंबे समय तक मेहनत करने वाला आपका मस्तिष्क भी पीठ दर्द का कारण बन सकता है।
काम और अपनी समस्याओं के अलावा कुछ और सोचने की कोशिश करें। आराम करने के लिए समय निकालें: आप तनाव के कारण होने वाली समस्याओं के बारे में भूलने के लिए खेल खेल सकती हैं या फिल्म देख सकती हैं।
किसी और चीज के बारे में सोचने की क्षमता आपके पीठ दर्द की संभावना को कम कर सकती है।
5. हमारे मोबाइल फ़ोन
हाल के एक अध्ययन से पता चला है कि एक साधारण टेक्स्ट मैसेज को पढ़ने से रीढ़ की हड्डी पर 45 पाउंड तक दबाव पड़ सकता है। इसके बारे में सोचें, 45 पाउंड सिर्फ इसलिए क्योंकि आप टेक्स्टिंग कर रही हैं!
हर दिन सेल फोन के उपयोग से सर्वाइकल स्पाइन के नेचुरल कर्व को नुकसान पहुंचता है और पीठ के इस हिस्से पर अधिक भार पड़ता है, खासकर किशोरों में।
वैज्ञानिकों ने गणना की है कि लोग औसतन प्रति दिन 2 से 4 घंटे सेल फोन का उपयोग करते हैं, जिसका अर्थ है कि हमारी गर्दन प्रति वर्ष 700 से 1,400 घंटे झुकती है।
इसका मतलब है कि जल्द ही, सर्जनों के पास कई और रोगी होंगे, विशेष रूप से किशोर और युवा क्योंकि लगातार गलत आसन से गंभीर और पुरानी रीढ़ की हड्डी की वक्रता हो सकती है।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it