अन्य

जंगल की आग से सदमे में आया तुर्की, अबतक 4 की हुई मौत 180 लोग घायल

Neha Dani
2 Aug 2021 1:36 AM GMT
जंगल की आग से सदमे में आया तुर्की, अबतक 4 की हुई मौत 180 लोग घायल
x
उन्होंने कहा कि मैंने इस क्षेत्र में जंगल की आग के बारे में सुना था, लेकिन यह बहुत डरावना है.'

तुर्की (Turkey) अपने तटीय पर्यटन दक्षिणी प्रांतों में अभूतपूर्व जंगल की आग (Forest Fire) से सदमे में है. इस घटना में 4 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए, जबकि अधिकारी तोड़फोड़ के दावों की जांच कर रहे हैं. देश भर में बुधवार से 70 से अधिक जंगल में आग लगने की सूचना मिली है. स्थानीय मीडिया ने बताया कि चिलचिलाती गर्मी और तेज हवाओं ने विभिन्न इलाकों में आग को भड़का दिया है. 4,000 दमकलकर्मियों ने हेलीकॉप्टर और विमानों की मदद से आग पर काबू पाया.

180 लोग हुए घायल
आपातकालीन अधिकारियों ने घोषणा की है कि लगभग 100 दमकलकर्मी और 80 से अधिक नागरिक घायल हो गए, जिनमें से ज्यादातर धुएं के कारण घायल हुए थे. आग के कारण कई आवासीय क्षेत्रों, गांवों और पर्यटन सुविधाओं को खाली करा लिया गया है, जिससे कई खेत और जंगली जानवर भी नष्ट हो गए हैं. हालांकि अब अधिकांश आग पर काबू पा लिया गया है, लेकिन देश के दक्षिण-पश्चिम और दक्षिण में शनिवार को लगातार चौथे दिन भी कई जगह आग लगी रही. अधिकारियों ने संदेह की जांच शुरू की कि अंताल्या प्रांत में भूमध्यसागरीय पर्यटन स्थल मानवघाट में चार स्थानों पर बुधवार को लगी आग आगजनी का परिणाम थी.
'यह बहुत डरावना है'
दरअसल, तुर्की में गर्मियों में जंगल की आग नियमित रूप से होती है. हालांकि, प्रत्यक्षदर्शियों ने एक साथ कई अलग-अलग बिंदुओं पर जंगल में आग लगने की सूचना दी है, जिससे संदेह पैदा हो रहा है. प्रेस आउटलेट्स और कमेंटेटरों ने प्रतिबंधित कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी के कुर्द विद्रोहियों पर उंगली उठाई है. वहीं, एक बीमा विक्रेता बार्सिन यिल्डिज, जो वहां छुट्टियां मना रहे थे, ने बताया कि यह आग धीरे-धीरे शुरू हुई. लेकिन हवाओं की वजह से आग की लपटें फैल गईं, और इसने कई आवासीय क्षेत्रों को खतरे में डाल दिया. उन्होंने कहा कि मैंने इस क्षेत्र में जंगल की आग के बारे में सुना था, लेकिन यह बहुत डरावना है.'

Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta