विश्व

रॉकेट हमले में तीन लोगों की मौत, 11 घायल

Janta Se Rishta Admin
14 Aug 2022 12:55 AM GMT
रॉकेट हमले में तीन लोगों की मौत, 11 घायल
x
ब्रेकिंग

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के छह महीने पूरे होने वाले हैं. दोनों देशों के बीच यह युद्ध कब खत्म होगा, इसके बारे में किसी को भी मालूम नहीं. रूस लगातार यूक्रेन पर हमले करना जारी रखा है. वहीं, समय समय पर यूक्रेन की सेना भी इस हमले का जवाब दे रही है. ऐसे में युद्ध का सिलसिला कब थमेगा, कहना मुश्किल है. वहीं, इस बीच खबर है कि रूस की सेना ने लड़ाई में आगे बढ़ने का दावा किया है. इसके साथ ही उसने रातभर यूक्रेन के रिहायशी इलाकों पर गोलाबारी की, जबकि यूक्रेन की सेना ने रूसी कब्जे वाले एक दक्षिणी क्षेत्र को वापस लेने की कोशिश के तहत खेरसॉन क्षेत्र में एक नदी पर बने पुल पर हमला किया.

मेयर कार्यालय के अनुसार, शुक्रवार रात क्रामतोर्स्क शहर पर रूस के एक रॉकेट हमले में तीन लोगों की मौत हो गई तथा 13 अन्य घायल हो गए. देश के युद्धग्रस्त पूर्वी क्षेत्र में क्रामतोर्स्क यूक्रेनी सेना का मुख्यालय है. रूसी रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को दावा किया कि उसके बलों ने प्रांतीय राजधानी डोनेट्स्क शहर के बाहरी इलाके में पिस्की नामक गांव पर कब्जा कर लिया है.

वहीं, यूक्रेन की सेना ने शनिवार को कहा कि उसके बलों ने अवदीवका और बखमुट की ओर आगे बढ़ने के लिए रूस की सेना द्वारा रात भर किए गए प्रयास को विफल कर दिया है. रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने यह भी दावा किया कि डोनेट्स्क शहर से 120 किलोमीटर उत्तर में क्रामतोर्स्क के पास रूस ने अमेरिका द्वारा भेजे गए कई रॉकेट लॉन्चर और गोला-बारूद को नष्ट कर दिया. यूक्रेन के अधिकारियों ने किसी सैन्य नुकसान की पुष्टि नहीं की, लेकिन कहा कि शुक्रवार को क्रामतोर्स्क पर रूस द्वारा दागी गईं मिसाइलों से 20 आवासीय इमारत नष्ट हो गईं.

उधर, यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्री ने रूस पर उसके कब्जे वाले क्षेत्रों में किफायती दवाओं की आपूर्ति बाधित करने का आरोप लगाया है. उन्होंने इसे मानवता के खिलाफ अपराध करार दिया है. 'एसोसिएटेड प्रेस' के साथ एक इंटरव्यू में यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्री विक्टर लियाश्को ने कहा कि रूसी अधिकारियों ने कब्जे वाले शहरों, कस्बों और गांवों में लोगों को सरकार की सब्सिडी वाली दवाएं उपलब्ध कराने के प्रयासों को अवरुद्ध किया है. लियाश्को ने कहा, 'युद्ध के पूरे छह महीनों के दौरान रूस ने मानवीय गलियारों को अनुमति नहीं दी है, जिससे हमे जरूरतमंद रोगियों को दवाएं उपलब्ध कराने में रूकावट आ रही है.'


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta