विश्व

बांग्लादेश में प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन, झड़प में 4 लोगों की मौत

Neha Dani
27 March 2021 2:12 AM GMT
बांग्लादेश में प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन, झड़प में 4 लोगों की मौत
x
प्रधानमंत्री शेख हसीना और शेख रेहाना को सौंपा है.

बांग्लादेश (Bangladesh) के चिट्टागांव (Chittagong) में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के दौरे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे थे. जिसके चलते पुलिस ने लोगों पर कार्रवाई करते हुए रबड़ की गोलियां दागीं, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई है (Protests in Bangladesh). इस बात की जानकारी एक पुलिस अधिकारी ने दी है. पुलिस अधिकारी रफिकुल इस्लाम ने कहा है, 'हमें भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले और रबड़ की गोलियां दागनी पड़ीं क्योंकि वो पुलिस स्टेशन में आ गए थे और तोड़फोड़ करने लगे थे.'

चिट्टागांव के एक अन्य पुलिसकर्मी मोहम्मद अलाउद्दीन ने कहा कि आठ घायल लोगों को अस्पताल ले जाया गया था, जहां चार की मौत हो गई. बांग्लादेश की राजधानी ढाका (Bangladesh Protests) में भी पीएम मोदी की यात्रा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए हैं. मीडिया रिपोर्ट में एक गवाह के हवाले से बताया गया है कि प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हो गई थी. जिसमें दो पत्रकारों सहित दर्जनों लोग घायल हो गए. इस समय बांग्लादेश अपनी स्वतंत्रता के 50 साल और राष्ट्रपिता 'बंगबंधु' शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशति मना रहा है.
कई अन्य देश के नेता भी आए
यहां दस दिन तक चलने वाले समराहो में श्रीलंका, नेपाल, भूटान और मालदीव के नेता भी आए थे. वहीं कोरोना काल में ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला विदेशी दौरा है. पीएम मोदी ने नेशनल परेड स्क्वायर पर 50 वें राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम को संबोधित भी किया है. इस दौरान उन्होंने कहा, 'यह मेरे जीवन के सबसे यादगार दिनों में से एक है. मैं शुक्रगुजार हूं कि बांग्लादेश ने मुझे इस आयोजन में शामिल किया. मैं आभारी हूं कि बांग्लादेश ने भारत को इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया. यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हमें शेख मुजीबुर रहमान को गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित करने का मौका मिला.'
बंगबंधु की बेटियों को सौंपा पुरस्कार
राष्ट्रपिता बंगबंधु को श्रद्धांजलि के तौर पर पीएम मोदी ने 'खादी मुजीब जैकेट' भी पहनी थी. उन्होंने कहा कि बंगबंधु के नेतृत्व और बहादुरी ने यह सुनिश्चित किया है कि कोई भी ताकत बांग्लादेश को गुलाम नहीं बना सकती. हाल ही में भारत की ओर से साल 2020 का गांधी शांति पुरस्कार (Gandhi Peace Prize 2020) बंगबंधु को देने की घोषणा की गई थी. जिसे पीएम मोदी ने उनकी बेटियों प्रधानमंत्री शेख हसीना और शेख रेहाना को सौंपा है.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta