Top
विश्व

FATF की ग्रे लिस्ट में ही बना रहेगा पाकिस्तान, नहीं हटेगा प्रतिबंध...6 योजनाओं को पूरा करने में हुआ नाकाम

Keshni
18 Oct 2020 4:53 PM GMT
FATF की ग्रे लिस्ट में ही बना रहेगा पाकिस्तान, नहीं हटेगा प्रतिबंध...6 योजनाओं को पूरा करने में हुआ नाकाम
x
फाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फोर्स (एफएटीएफ) ने आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के लचर रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क| इस्लामाबाद,फाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फोर्स (एफएटीएफ) ने आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के लचर रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई है। एफएटीएफ के अधिकारियों ने कहा है कि पाकिस्तान आतंक के खिलाफ हमारे 27 कार्ययोजनाओं में से प्रमुख छह योजनाओं को पूरा करने में नाकाम साबित हुआ है। इसमें भारत में वांछित आतंकवादियों मौलाना मसूद अजहर और हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई न करना भी शामिल हैं। जिसके बाद इस महीने फ्रांस की राजधानी पेरिस में होने वाली इस संगठन की बैठक में भी पाकिस्तान के ग्रे लिस्ट में ही बने रहने की संभावना है।

ग्रे लिस्ट में ही बना रहेगा पाकिस्तान

फाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फोर्स (एफएटीएफ) की डिजिटल पूर्ण सत्र 21-23 अक्टूबर को पेरिस में आयोजित किया जाएगा। इसमें मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के वित्तपोषण के खिलाफ लड़ाई में वैश्विक प्रतिबद्धताओं और मानकों को पूरा करने में इस्लामाबाद के प्रदर्शन की पूरी तरह समीक्षा की जाएगी। माना जा रहा है कि उसके लचर रवैये के कारण ग्रे लिस्ट में में बनाए रखने पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

यूएन में प्रतिबंधित आतंकियों के खिलाफ नहीं की कार्रवाई

घटनाक्रम से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि एफएटीएफ ने पाकिस्तान को आतंकवाद के वित्तपोषण को पूरी तरह रोकने के लिए कुल 27 कार्ययोजनाएं पूरी करने की जिम्मेदारी दी थी जिनमें से उसने अभी 21 को पूरा किया है और कुछ काम पूरे नहीं कर सका है। पाकिस्तान ने जिन कार्यों को पूरा नहीं किया है, उनमें मसूद अजहर, हाफिज सईद और जाकिर उर रहमान लखवी जैसे आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करना शामिल है।

आतंकियों को प्रतिबंधित सूची से किया बाहर

इसके अलावा एफएटीएफ ने इस बात का पुरजोर संज्ञान लिया है कि आतंकवाद रोधी कानून की अनुसूची पांच के तहत पाकिस्तान की 7,600 आतंकियों की मूल सूची से 4,000 से अधिक नाम अचानक से गायब हो गये। अधिकारी ने कहा कि इन हालात में लगभग तय है कि पाकिस्तान एफएटीएफ की ग्रे सूची में बना रहेगा।

अमेरिका-फ्रांस समेत ये देश भी पाकिस्तान के खिलाफ

इसके अलावा नामित करने वाले चार देश-अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी भी पाकिस्तान की सरजमीं से गतिविधियां चला रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की उसकी प्रतिबद्धता से संतुष्ट नहीं हैं। अजहर, सईद और लखवी भारत में अनेक आतंकी हमलों में संलिप्तता के लिए सर्वाधिक वांछित आतंकवादी हैं।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it