विश्व

पाकिस्तान: कक्षा 9 से 12 की परीक्षाएं बोर्ड कार्यक्रम के अनुसार की जाएंगी आयोजित, शिक्षा मंत्री ने कही ये बात

Gulabi
4 July 2021 1:34 PM GMT
पाकिस्तान: कक्षा 9 से 12 की परीक्षाएं बोर्ड कार्यक्रम के अनुसार की जाएंगी आयोजित, शिक्षा मंत्री ने कही ये बात
x
पाकिस्तान के शिक्षा मंत्री शफकत महमूद ने दोहराया है कि

पाकिस्तान के शिक्षा मंत्री शफकत महमूद (Pakistan Education Minister Mahmood Shafqat) ने दोहराया है कि संबंधित बोर्डों द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार कक्षा नौ से 12 तक की बोर्ड परीक्षाएं (Board Exams) देशभर में आयोजित कराई जाएंगी. शनिवार को लाहौर में पत्रकारों से बात करते हुए महमूद ने याद किया कि पिछले साल परीक्षा रद्द कर दी गई थी और सभी छात्र पास कर दिए गए थे. हालांकि इस साल सभी मंत्रियों और हितधारकों ने फैसला किया है कि परीक्षा के बिना ग्रेडिंग (Grading) नहीं की जाएगी.

स्तर की परीक्षाएं हो चुकी हैं और अब कक्षा 9, 10, 11, 12 की परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी. उन्होंने कहा, 'मैं छात्रों से कह रहा हूं कि अपनी पढ़ाई जारी रखें क्योंकि परीक्षाएं न तो स्थगित होंगी और न ही रद्द.' उन्होंने उन छात्रों को सलाह दी जो पहले से ही पढ़ाई जारी रखने की तैयारी कर रहे थे. उन्होंने कहा कि जिन छात्रों को उम्मीद थी कि परीक्षा रद्द कर दी जाएगी, 'ऐसा नहीं होगा'

प्रांतीय सरकारें लेंगी छुट्टियों पर फैसला
उन्होंने जोर देकर कहा कि यह हमारे प्रांतों और हितधारकों का सर्वसम्मत निर्णय है. बोर्ड द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार परीक्षाएं होंगी. शिक्षा मंत्री ने छात्रों को अफवाहों पर विश्वास न करने की सलाह देते हुए कहा कि देश में 29 शैक्षिक बोर्ड हैं, जिनमें से प्रत्येक ने अपना कार्यक्रम जारी किया था और परीक्षा उन तारीखों पर ही होगी.

गर्मी की छुट्टियों के बारे में महमूद ने कहा कि यह प्रांतीय सरकारों पर छोड़ दिया गया है कि वे छुट्टियां देंगी या नहीं. उन्होंने कहा, 'ये सामान्य स्थितियां नहीं हैं और प्रांत इन परिस्थितियों में जो भी फैसला करेंगे, वह सही होगा.' मंत्री ने कहा कि स्कूलों के बंद होने के कारण शिक्षा 'बुरी तरह से प्रभावित' हुई है.

स्कूलों का खुलना बेहद जरूरी
उन्होंने कहा कि कोरोनोवायरस की स्थिति को ध्यान में रखते हुए स्कूलों को यथासंभव खुला रखा जाना चाहिए. महमूद ने कहा कि कक्षाओं में जो पढ़ाई की जा सकती है वह कहीं और नहीं हो सकती. बहुत सारे सिलेबस को कवर करना पड़ता है और कई कमियों को दूर करना पड़ता है. इसलिए हमने इस फैसले को प्रांतों और निजी स्कूलों पर छोड़ दिया है.

शिक्षा मंत्री ने ये बयान इस्लामाबाद में उच्च शिक्षा आयोग के सामने सैकड़ों छात्रों के विरोध प्रदर्शन और सेकेंडरी स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षाओं को रद्द करने की मांग के बाद दिया है. प्रदर्शनकारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और परीक्षा रद्द करने की मांग की. छात्रों ने कहा कि उन्हें महामारी के दौरान ऑनलाइन पढ़ाया गया और वो पूरी तरह से तैयार नहीं हैं, इसलिए परीक्षा रद्द कर दी जानी चाहिए.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta