विश्व

19 सितारों से आ रहे हैं रहस्यमय सिग्नल, क्या इंसानों को 'पुकार' रहे हैं एलियंस?

Gulabi
12 Oct 2021 5:14 PM GMT
19 सितारों से आ रहे हैं रहस्यमय सिग्नल, क्या इंसानों को पुकार रहे हैं एलियंस?
x
एस्ट्रोनोटर्स ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली रेडियो एंटेना के जरिए सौरमंडल

एस्ट्रोनोटर्स ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली रेडियो एंटेना के जरिए सौरमंडल (Solar System) के बाहर मौजूद 19 दूरस्थ सितारों (19 distant stars) से आने वाले सिग्नल का पता लगाया है. इन सिग्ननलों से पता चलता है कि वहां छिपे हुए ग्रह हो सकते हैं. क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी की टीम के मुताबिक, सभी सिग्नल पृथ्वी से 165 प्रकाशवर्ष दूर स्थित रेड ड्वार्फ सितारों (Red Dwarf Stars) से आ रहे हैं. इनमें से चार सिग्नल ऐसे हैं, जिन्हें लेकर माना जा रहा है कि वहां ग्रहों की मौजूदगी है. इन ग्रहों को लेकर माना गया है कि यहां पर एलियन लाइफ (Alien Life) मौजूद हो सकता है.


डच नेशनल ऑब्जर्वेटरी (Dutch National Observatory) के एक्सपर्ट सहित टीम ने नीदरलैंड (Netherlands) में स्थित शक्तिशाली रेडियो टेलीस्कोप लो फ्रीक्वेंसी एरे (LOFAR) का इस्तेमाल किया. हमारे सौरमंडल के ऑब्जर्वेशन से एस्ट्रोनोमर्स को पता चलता है कि ग्रहों से शक्तिशाली रेडियो तरंगों उत्सर्जन होता है, क्योंकि उनके चुंबकीय क्षेत्र सौर हवाओं के साथ इंटरेक्ट करते हैं. टीम ने कहा, ये पहली बार है जब एस्ट्रोनोमर्स एक एक्सोप्लैनेट से रेडियो तरंगों का पता लगाने में कामयाब हुए हैं और ये रेडियो एस्ट्रोनॉमी के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है.

सूर्य के अलावा अन्य सितारों की खोज की नई तकनीकों का होगा जन्म
एस्ट्रोनोमर्स संदिग्ध ग्रहों के आकार या वे रहने योग्य हैं या नहीं, ये नहीं बता सकते हैं. ये सिग्नल उन सिग्नलों के समान हैं, जो बृहस्पति (Jupiter) सोलर विंड (Solar Wind) के साथ इंटरेक्ट करते समय देखे जाते हैं. स्टडी के प्रमुख लेखक डॉ बेंजामिन पोप ने कहा कि सिग्नल के रिजल्ट हमारे अपने सूर्य के अलावा अन्य सितारों की परिक्रमा करने वाली दुनिया की खोज में नई तकनीकों को जन्म दे सकता है. इससे पहले, एस्ट्रोनोमर्स स्थिर रेडियो उत्सर्जन में केवल निकटतम सितारों का पता लगाने में सक्षम हुए थे, जैसे कि प्रॉक्सिमा सेंटॉरी (Proxima Centauri), जो कि केवल चार प्रकाशवर्ष दूर है.

अब रेडियो एस्ट्रोनॉमी का खुलेगा नया अध्याय
रेडियो आकाश में बाकी सब कुछ इंटरस्टेलर गैस, या ब्लैक होल जैसे एक्सोटिका था. टीम के अनुसार, लेकिन दूर के तारों से रेडियो सिग्नलों का पता लगाने से उन सितारों की परिक्रमा करने वाले ग्रहों को खोजने के साधन के रूप में रेडियो एस्ट्रोनॉमी का एक नया अध्याय खुलेगा. रिसर्चर्स ने रेड ड्वार्फ सितारों पर ध्यान केंद्रित किया, जो सूर्य से बहुत छोटे हैं और उन्हें तीव्र चुंबकीय गतिविधि के लिए जाना जाता है. स्टडी के लेखक लीडेन यूनिवर्सिटी के डॉ जोसेफ कॉलिंगम ने कहा कि टीम को विश्वास है कि ये सिग्नल सितारों और अनदेखी परिक्रमा करने वाले ग्रहों के चुंबकीय कनेक्शन से आ रहे हैं.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it