विश्व

आस्ट्रेलिया में लिबरल पार्टी की हार, एल्बेनीज होंगे नए प्रधानमंत्री, जानें मतदाताओं ने किन मुद्दे को दी तवज्जो

Renuka Sahu
22 May 2022 1:00 AM GMT
Liberal Partys defeat in Australia, Albanese will be the new Prime Minister, know which issue did the voters pay attention to
x

फाइल फोटो 

आस्ट्रेलिया में बीते करीब दस वर्षों से बना लिबरल पार्टी के शासन का सिलसिला टूट गया है और विपक्षी लेबर पार्टी ने चुनाव में जीत हासिल की है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। आस्ट्रेलिया में बीते करीब दस वर्षों से बना लिबरल पार्टी के शासन का सिलसिला टूट गया है और विपक्षी लेबर पार्टी ने चुनाव में जीत हासिल की है। प्रधानमंत्री स्काट मारीसन ने चुनाव में हार स्वीकार करते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। लेबर पार्टी को सरकार बनाने में पर्यावरण सुधार के समर्थक निर्दलीय सांसदों का भी समर्थन मिल सकता है।

मारीसन ने लेबर पार्टी के नेता और भविष्य के प्रधानमंत्री एंथनी एल्बेनीज को जीत की बधाई दी और नई जिम्मेदारी के लिए शुभकामना दी है। मारीसन ने अपनी पार्टी का नेता पद भी छोड़ दिया है। लेबर पार्टी को सरकार बनाने के लिए संसद के निचले सदन की कुल 151 सीटों में से 76 सीटों की जरूरत होगी। मतों की गिनती का कार्य अभी जारी है।
लिबरल पार्टी की दस वर्ष की सत्ता के बाद लेबर पार्टी को मौका
रिकार्ड संख्या में आए पोस्टल बैलट की गिनती भी जारी है। कई सीटों पर पोस्टल बैलट परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं। चुनाव परिणामों से प्रतीत होता है कि मारीसन के लिबरल- नेशनल गठबंधन को पश्चिमी आस्ट्रेलिया और शहरी इलाकों में करारी हार मिली है। मध्य-वाम लेबर पार्टी को ओपीनियन पोल में भी लिबरल पार्टी पर बढ़त मिलती दिखाई दी थी। चुनाव परिणामों में भी यही तस्वीर उभरी है।
पर्यावरण सुधार के मुद्दे को मतदाताओं ने दी तवज्जो
नई सरकार में पर्यावरण सुधार के समर्थकों का प्रभाव नजर आ सकता है जिसके कारण मारीसन सरकार की कोयला खनन की नीति पर असर प़़ड सकता है। शहरी क्षेत्र में लिबरल पार्टी को मिली हार का कारण उसकी पर्यावरण को लेकर उदासीन नीतियां मानी जा रही हैं। आस्ट्रेलिया में हाल के वर्षो में बाढ़ और जंगल में आग की घटनाओं के लिए सरकार की नीतियों को जिम्मेदार माना गया है। तीन वयस्क संतानों वाली कामकाजी महिला चैरलट फारवुड ने चुनाव नतीजों को आशावादी माना है, जिसमें भविष्य की बेहतरी निहित है।
पर्यावरण के लिए कार्य करने वाले संगठन ग्रीन्स के नेता एडम बैंट ने कहा, मतदाताओं के लिए पर्यावरण बड़ा मुद्दा रहा। पर्यावरण सुधार के लिए अब कोयले और गैस के इस्तेमाल के बीच संतुलन बनाने की जरूरत है। एडम खुद मेलबर्न से चुनाव जीते हैं जबकि उनके संगठन के दो अन्य प्रत्याशी भी जीते हैं। लेबर पार्टी ने चुनाव में पर्यावरण के अतिरिक्त महंगाई, बेरोजगारी और तरक्की की रफ्तार को मुद्दा बनाया था।
भारत के साथ रिश्ते और मजबूत होंगे
भारत में आस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बेरी ओ-फारेल ने कहा है कि आस्ट्रेलिया के नए प्रधानमंत्री एंथनी एल्बेनीज भारत से अपरिचित नहीं हैं। वह 1991 में पर्यटक के रूप में और 2018 में संसदीय दल के साथ भारत आ चुके हैं। उनकी सरकार में दोनों देशों के रणनीतिक और मैत्री संबंध ज्यादा सुदृढ़ होने की उम्मीद है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta