विश्व

डायनासोर का राजा: जबड़े को देख वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया कितना खतरनाक था टीरैनोसॉरस

Gulabi
25 Aug 2021 5:09 AM GMT
डायनासोर का राजा: जबड़े को देख वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया कितना खतरनाक था टीरैनोसॉरस
x
वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया कितना खतरनाक था टीरैनोसॉरस

टोक्यो: करोड़ों साल पहले धरती पर दानव आकार के डायनासोर पाए जाते थे। इनमें कुछ शाकाहारी और अहिंसक जबकि कुछ बेहद खतरनाक थे। इनमें से Tyrannosaurus rex को 'डायनासोर का राजा' माना जाता था। इनके जबड़े में खास तरह की नसें होती थीं जिससे ये अपने शिकार के अलग-अलग हिस्से को पहचान सकते थे और उसे अलग तरीकों से खा सकते थे। जापान की Fukui Prefectural University के विशेषज्ञों ने यह निष्कर्ष निकाला है।

टी. रेक्स पर फोकस करता पहला अध्ययन
विशेषज्ञों ने टी. रेक्स के निचले जबड़े के जीवाश्म को स्कैन किया और फिर से नर्व पैटर्न बनाया। सांप जैसे मुंह वाले भयानक जीव अपने मुंह से कई काम करने में सक्षम थे, जैसे- घर बनाना, बच्चों की देखभाल करना और एक-दूसरे के साथ संवाद करना। टीम ने कहा कि जबड़े की आंतरिक संरचना के बारे में पहले भी कई सरीसृप जीवाश्म पर अध्ययन किए गए हैं। टी. रेक्स पर फोकस करने वाली यह पहली स्टडी है।
अनुमान से कहीं ज्यादा खतरनाक
रिसर्च के लेखक और जापान में फुकुई प्रीफेक्चुरल यूनिवर्सिटी के डायनासोर जीवाश्म विज्ञानी सोइचिरो कावाबे बताते हैं कि टी. रेक्स उससे कहीं ज्यादा खतरनाक थे जितना हम उन्हें समझते थे। उन्होंने कहा कि हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि टायरानोसॉरस रेक्स के जबड़े में तंत्रिकाएं अभी तक अध्ययन किए गए किसी भी अन्य डायनासोर की तुलना में ज्यादा जटिल हैं। वास्तव में यह आधुनिक समय के मगरमच्छों और tactile-foraging पक्षियों की तरह है, जिनकी इंद्रियां बेहद गहरी होती हैं।
दूसरे डायनासोर से अलग
कावाबे के मुताबिक टी. रेक्स सामग्री और गति में मामूली अंतर के प्रति बेहद संवेशनशील थे। इसका मतलब है कि वह अपने शिकार के अलग-अलग हिस्सों को पहचानने और परिस्थिति के आधार पर उन्हें अलग-अलग तरीके से खाने में सक्षम थे। उन्होंने कहा कि रिसर्च के नतीजे एक डायनासोर के रूप में टी. रेक्स की हमारी धारणा को पूरी तरह से बदल देते हैं क्योंकि डायनासोर अपने मुंह के आसपास असंवेदनशील था। वे अपने मुंह से हड्डियों सहित हर चीज को काटने में सक्षम थे।
सीटी स्कैन से किया अध्ययन
डॉ कावाबे और उनके सहयोगियों ने मोंटाना में हेल क्रीक रॉक फॉर्मेशन से खोजे गए टी. रेक्स के जबड़ों के जीवाश्म का अध्ययन किया। वैज्ञानिकों ने कंप्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन करके नर्व पैटर्न बनाया। फिर उन्होंने 3डी स्ट्रक्चर की तुलना दूसरे डायनासोर से की। वैज्ञानिकों ने पाया कि टी. रेक्स की neurovascular canals जटिल शाखाओं में बंटी हुई है, खासकर मुंह के अगले हिस्से पर।
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it