विश्व

इजरायल ने सीरिया की राजधानी दमिश्क में मिसाइल से किया हमला, जानिए क्या है बार-बार निशाना बनाने की वजह

Neha Dani
7 Jun 2022 8:56 AM GMT
इजरायल ने सीरिया की राजधानी दमिश्क में मिसाइल से किया हमला, जानिए क्या है बार-बार निशाना बनाने की वजह
x
वर्तमान में इजराइल यहां करीब 317 मिलियन डॉलर खर्च कर रहा है. इसी इलाके को लेकर दोनों देश आमने सामने रहते हैं.

सीरिया और इजराइल के बीच एक बार फिर टेंशन बढ़ गई है. सीरिया के सरकारी टेलीविजन पर मंगलवार को प्रसारित खबर के अनुसार, इजराइल की मिसाइलों ने सीरिया की राजधानी दमिश्क के दक्षिण में सीरियाई सेना के ठिकानों को निशाना बनाया है. इस हमले से कैंप में मौजूद सामग्री को काफी नुकसान पहुंचा है. हालांकि किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

सीरिया का दावा, इजराइल के कई मिसाइल मारे
टेलीविजन पर प्रसारित खबर में एक अज्ञात सैन्य अधिकारी के हवाले से कहा गया कि इजराइल के युद्धक विमानों ने सोमवार देर रात सीरिया में इजराइली कब्जे वाले गोलान हाइट्स पर उड़ान भरते समय कई मिसाइलें दागीं. इस दौरान सीरियाई वायु रक्षकों ने अधिकांश मिसाइलों को मार गिराया. वहीं, इजराइल की ओर से सीरिया के हमले के आरोपों पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है.
मई में किया था इजराइल ने हमला
सीरिया के सरकारी मीडिया के अनुसार, इजराइली मिसाइलों ने 13 मई को मध्य सीरिया को निशाना बनाया था, जिसमें 1 आम नागरिक सहित 5 लोगों की मौत हो गई थी. इस हमले से क्षेत्र के खेतों में आग भी लग गई थी. सीरिया सरकार का कहना है कि इजराइल ने पिछले कुछ वर्षों में सीरिया में सैकड़ों हमले किए हैं लेकिन उसने शायद ही कभी इस तरह के अभियानों को स्वीकारा है या इन पर चर्चा की है. दूसरी ओर इजराइल का कहना है कि वह ईरान को नहीं, बल्कि उससे संबद्ध मिलिशिया के ठिकानों को निशाना बनाता है.
दोनों देशों में विवाद की ये है वजह
एक अहम सवाल जिसका उत्तर हर कोई जानना चाहता है, वो ये है कि आखिर इजराइल और सीरिया के बीच ऐसा क्या विवाद है जिस वजह से दोनों देश आमने-सामने रहते हैं. यहां आपको बता दें कि दोनों ही देशों के बीच काफी पुराना विवाद है. यह विवाद गोलान हाइट्स इलाके को लेकर है. यह गोलान पहाड़ी के नाम से भी फेमस है. इस इलाके पर कभी सीरिया का कब्जा था. 1967 में अरब देशों के साथ हुए युद्ध के बाद इजराइल ने इस एरिया को कब्जा लिया. वर्तमान में इजराइल यहां करीब 317 मिलियन डॉलर खर्च कर रहा है. इसी इलाके को लेकर दोनों देश आमने सामने रहते हैं.
गोलान पर इतना जोर क्यों
गोलान को इजराइल इसलिए अपने पास रखना चाहता है क्योंकि यहां से सीरिया की राजधानी दमिश्क सिर्फ 60 किमी दूर है. गोलान की ऊंची पहाड़ियों से दमिश्क को आराम से देखा जा सकता है. इसके अलावा यह एरिया फसल के लिहाज से भी संपन्न है.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta