विश्व

युद्ध में रूसी सेना ने यूक्रेन में भारी तबाही मचाई, अस्पताल पर हमले पर कही यह बात

jantaserishta.com
11 March 2022 5:56 AM GMT
युद्ध में रूसी सेना ने यूक्रेन में भारी तबाही मचाई, अस्पताल पर हमले पर कही यह बात
x

Ukraine Russia War: 24 फरवरी की सुबह यूक्रेन के लिए तबाही की शुरुआत भर थी, जब रूस ने ताबड़तोड़ हमलों की शुरुआत की थी. ये जंग अभी तक खत्म नहीं हुई है. तबाही का दौर जारी है. जंग में रूसी सेना ने यूक्रेन के तमाम सरकारी इमारतें, स्कूल, अस्पताल और शहर खंडहर में तब्दील कर दिए. रूस ने जो तबाही मचाई अब उससे कदम भी खींचने लगा है. बता दें कि रूस ने मारियूपोल शहर में एक अस्पताल पर बमबारी पर अपना रुख बदल लिया है.

एजेंसी के मुताबिक, बीते दिन यानी गुरुवार को क्रेमलिन की ओर से एक बयान जारी किया था, इसमें साफ तौर पर इस बात से इनकार किया गया है कि रूसी सेना ने अस्पताल पर बम बरसाया था. वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि बुधवार को एक अस्पताल पर हुए बम विस्फोट में एक बच्चे सहित 3 लोगों की मौत हो गई. साथ ही रूस के इस दावे को खारिज कर दिया कि वहां कोई मरीज नहीं था.
जेलेंस्की ने कहा कि हमेशा की तरह वे (पुतिन) आत्मविश्वास से झूठ बोलते हैं. साफ है कि जब से रूस ने जंग का बिगुल बजाया है, तब से दुनियाभर में इसकी निंदा हो रही है. एजेंसी के मुताबिक जेलेंस्की के बयान के बाद क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने कहा कि रूसी सेना ने इस जंग में आम नागरिकों को टारगेट नहीं किया है, न ही उन पर हमला किया है. उन्होंने कहा कि क्रेमलिन इस घटना की जांच करेगा.
पेसकोव ने कहा कि हम इस संबंध में अपनी सेनाओं से पूछेंगे कि क्या उन्होंने किसी अस्पताल को टारगेट किया है. क्योंकि जंग के मैदान में क्या हुआ इस बारे में कुछ भी कह पाना बहुत जल्दबाजी होगी. बेहतर होगा कि सेना से इस बारे में पुष्टि कर ली जाए. हालांकि कुछ रूसी अधिकारियों ने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया है कि रूसी सेना ने अस्पताल पर बमबारी की.
विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा कि अस्पताल की इमारत अति-कट्टरपंथी यूक्रेनी बलों के नियंत्रण में थी, इसे डॉक्टरों और मरीजों को खाली कर दिया था. वहीं विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़खारोवा ने कहा कि यह सूचना पूरी तरह से गलत और भड़काऊ है. वहीं रक्षा मंत्रालय ने भी अस्पताल पर बमबारी करने से इनकार किया. साथ ही कहा कि रूसी सेना लोगों को निकालने के लिए सीजफायर कर रही है. ऐसे में अस्पताल पर बमबारी करने की बात पूरी तरह से बेतुकी और बेबुनियाद है.
उधर, रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने कहा कि रूसी विमानों ने यूक्रेन में जमीनी ठिकानों पर कोई हमला नहीं किया है. इस तरह की बातों से पश्चिम देशों की जनता को तो अपनी बातों में फंसाया जा सकता है लेकिन एक्सपर्ट्स को नहीं.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta