विश्व

इमरान खान ने फैसलाबाद की रैली में फिर बताया जान को खतरा, हाथ उठाकर अवाम से की ये गुजारिश

Neha Dani
16 May 2022 2:37 AM GMT
इमरान खान ने फैसलाबाद की रैली में फिर बताया जान को खतरा, हाथ उठाकर अवाम से की ये गुजारिश
x

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को अपनी जान का खतरा सता रहा है। यही कारण है कि वह अपनी हर रैली में अवाम से अब खुद के लिए इंसाफ की गुजारिश कर रहे हैं। पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (PTI) के अध्यक्ष इमरान खान ने फैसलाबाद की रैली में फिर से दोहराया कि उनकी जान को खतरा है। उन्होंने कहा कि अगर मैं मारा जाता हूं तो मैंने एक वीडियो मैसेज रिकॉर्ड करके रखा हुआ है, जिसे जारी किया जाएगा। इमरान ने अपने समर्थकों से गुजारिश करते हुए कहा कि अगर मुझे कुछ होता है तो मुझे और मेरे देश को इंसाफ जरूर दिलाना। इससे पहले इमारन खान ने दावा किया था कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के इशारे पर उनके चरित्र हनन की तैयारी की जा रही है। पाकिस्तानी मीडिया में भी दावा किया गया था कि इमरान खान के कई आपत्तिजनक वीडियो सोशल मीडिया में शेयर किए जा रहे हैं।

'मुझे कुछ होता है तो न्याय जरूर दिलाना'
इमरान खान ने फैसलाबाद में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने एक वीडियो रिकॉर्ड किया है क्योंकि मैं पाकिस्तान के इतिहास को जानता हूं। यह हमें बताता है कि हमारी न्याय प्रणाली शक्तिशाली अपराधियों को नहीं पकड़ सकती है, इसलिए मैं इसे लोगों पर छोड़ता हूं। अगर मुझे कुछ होता है, तो आप लोगों को देश को और मुझे न्याय दिलाना होगा। उन्होंने हाथ उठाकर भीड़ से पूछा कि आप लोग करेंगे क्या? इस पर समर्थकों ने भी जोर से कहा कि 'हां।'
इमरान खान ने समर्थकों से मांगे दो वादे
उन्होंने समर्थकों से कहा कि आपको मेरे साथ दो वादे करने होंगे। अगर मुझे कुछ होता है, तो मैं वीडियो में जिन लोगों का नाम लेता हूं, आपको उनके खिलाफ खड़ा होना होगा और सुनिश्चित करना होगा कि उन्हें अदालत में ले जाया जाए ताकि पहली बार शक्तिशाली को कानून का सामना करना पड़े। उन्होंने भीड़ से दूसरा वादा मांगा कि वे "कभी गुलामी स्वीकार नहीं करेंगे" और "कभी भी उस पार्टी को वोट नहीं देंगे जिसके नेताओं का पैसा विदेशों में जमा है"।
इमरान बोले- अमेरिका से भीख मांगने जा रहा पाकिस्तान
इमरान खान ने कहा कि उन्होंने कहा कि ऐसे राजनेताओं पर देश के हितों की रक्षा के लिए निर्भर नहीं रहा जा सकता है क्योंकि उनकी संपत्ति विदेश में है और उनकी प्राथमिकताएं कहीं और हैं। उन्होंने पीएमएलएन के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार पर निशाना साधते हुए दावा किया कि वे देश को विनाश की ओर ले जा रहे हैं। विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी की आगामी अमेरिका यात्रा के बारे मे उन्होंने कहा कि सरकार अमेरिका से पैसे की भीख मांगेगी और उन्हें डराने के लिए मेरे नाम का इस्तेमाल करेगी।

इमरान ने बताया अमेरिकी मदद के पीछे की शर्तें
इमरान ने कहा कि कोई भी अमेरिकी मदद कड़ी शर्तों के साथ आएगी। इसमें पाकिस्तान को भारत की सेवा करने, कश्मीर और फिलिस्तीन को भूलने और रूस और ईरान के साथ व्यापारिक लेनदेन से पीछे हटने के लिए कहा जाएगा। इमरान ने शहबाज शरीफ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इनके पास अर्थव्यवस्था को संभालने की ताकत नहीं है। लर के मुकाबले रुपया लगातार गिर रहा है, मुद्रास्फीति बढ़ रही है और शेयर बाजार भारी दबाव में है।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta