विश्व

काबुल एयरपोर्ट पर फिर दिखी पिता की बेबसी, अपने बच्चे को US सैनिक को सौंपा, अबतक नहीं चला पता

Renuka Sahu
6 Nov 2021 3:20 AM GMT
काबुल एयरपोर्ट पर फिर दिखी पिता की बेबसी, अपने बच्चे को US सैनिक को सौंपा, अबतक नहीं चला पता
x

फाइल फोटो 

मिर्जा अली अहमदी और उनकी पत्नी सुराया 19 अगस्त को अफगानिस्तान में काबुल हवाई अड्डे के बाहर अपनी पांच बच्चों के साथ अराज भीड़ में खड़े थे, जब एक अमेरिकी सैनिक ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें कोई मदद चाहिए?

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। मिर्जा अली अहमदी और उनकी पत्नी सुराया 19 अगस्त को अफगानिस्तान में काबुल हवाई अड्डे के बाहर अपनी पांच बच्चों के साथ अराज भीड़ में खड़े थे, जब एक अमेरिकी सैनिक ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें कोई मदद चाहिए? मिर्जा को डर था कि भीड़ में उनका दो महीने का बच्चा सोहेल कुचला जा सकता है। जिसके चलते उन्होंने अपना बच्चा सैनिक को दे दिया। एयरपोर्ट के अंदर जाने पर उन्हें कहीं न तो वह सैनिक दिखा और न ही बच्चा। हैरान और परेशान मिर्जा ने हर जगह अपने बच्चे की तलाश की और लोगों से पूछा, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पाया।

मिर्जा ने यह सोचकर अपना बच्चा सैनिक को सौंप दिया कि वे जल्द ही एंट्री गेट पर पहुंच जाएंगे। प्रवेश द्वार बस पांच मीटर ही दूर था। लेकिन उस समय तालिबान के लड़ाकों ने सैकड़ों लोगों को पीछ धकेलना शुरू किया जिसके कारण परिवार के दूसरे लोगों को बाड़ के दूसरी तरफ जाने में आधे घंटे से भी ज्यादा का समय लगा।
जब वे अंदर गए तो सोहेल का कहीं पता नहीं चला। मिर्जा अली बताते हैं कि उन्होंने 10 साल तक अमेरिकी दूतावास में सुरक्षा गार्ड के रूप में काम किया है। उन्होंने अपने बच्चे के बारे में हर जगह पूछना शुरू कर दिया। एक कमांडर ने उनसे कहा कि एयरपोर्ट एक बच्चे के लिए खतरनाक जगह तो शायद उसे एक खास जगह पर रखा गया होगा, लेकिन जब वे उस जगह पहुंचे तो वह भी खाली थी।
मिर्जा ने एयरपोर्ट पर हर किसी से अपने बच्चे के बारे में पूछा. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने 20 से ज्यादा लोगों से अपने बच्चे के बारे में पूछा लेकिन कही से कुछ भी पता नहीं चल पाया।
35 साल के मिर्जा अली और 32 साल की उनकी पत्नी समेत चार बच्चों को कतर और जर्मनी के जरिए अब अमेरिका पहुंचा दिया गया है और अब वे टेक्सास में हैं. यहां उनका कोई रिश्तेदार नहीं है।
चूंकि मिर्जा ने अमेरिकियों के साथ काम किया है इसलिए उनके बच्चे के खोने की खबर सभी एजेंसियों को दे दी गई है। एक अधिकारू ने कहा कि सभी एजेंसियों को जानकारी दे दी गई है और कहा कि बच्चे को आखिरी बार काबुल हवाई अड्डे पर हंगामे के दौरान एक अमेरिकी सैनिक को सौंपते हुए देखा गया था, लेकिन "दुर्भाग्य से कोई भी बच्चे को नहीं ढूंढ सका,"
मिर्जा की पत्नी सुराया कहती हैं कि वह ज्यादातर ससमय रोती रहती हैं और उनके बाकी बच्चे परेशान हैं. वो कहती हैं, "मैं सिर्फ अपने बच्चे के बारे में सोच रहा हूं।" "हर कोई जो मुझे बुला रहा है, मेरी माँ, मेरे पिता, मेरी बहन, वे सब मुझे दिलासा देते हैं और कहते हैं 'चिंता मत करो, भगवान दयालु है, तुम्हारा बेटा मिल जाएगा।'"


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta