Top
विश्व

कंगाली की कगार पर परिवार! एक हफ्ते में खा जाते हैं 40 हजार का राशन, कपल को है चिंता

Gulabi
22 Feb 2021 4:37 PM GMT
कंगाली की कगार पर परिवार! एक हफ्ते में खा जाते हैं 40 हजार का राशन, कपल को है चिंता
x
यूके के लंकाशायर में रहने वाले रेडफोर्ड कपल अपने बच्चे पैदा करने की हॉबी की वजह से दुनियाभर में सुर्खियां बटोर चुका है

यूके के लंकाशायर में रहने वाले रेडफोर्ड कपल अपने बच्चे पैदा करने की हॉबी की वजह से दुनियाभर में सुर्खियां बटोर चुका है. ये कपल 22 बच्चों के पेरेंट्स हैं. इन्हें ब्रिटेन के सबसे बड़े परिवार का तमगा हासिल हो चुका है. लेकिन यही बात अब इनके लिए परेशानी का सबब बन चुकी है. बीते एक साल से लगे लॉकडाउन की वजह से इस परिवार को काफी मुश्किलों से जूझना पड़ रहा है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक पहले आम दिनों में बच्चे स्कूल जाते थे तो घर पर मां को खाली समय मिल जाता था लेकिन अब ये बच्चे हर समय घर पर ही मौजूद रहते हैं. जिस वजह से वो सभी लगातार खाने की डिमांड करते रहते हैं. बच्चों की खाने की इसी लत की वजह से अब ये परिवार कंगाल होने की दहलीज पर खड़ा है. कपल का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से उनके खर्चे बहुत बढ़ गए हैं, इसमें सबसे ज्यादा पैसे राशन में खर्च हो रहे हैं.

हर हफ्ते 40 हजार रुपए का राशन खरीदते हैं
इंग्लैंड का ये परिवार 16 गैलन दूध और 4 ब्रेड के बड़े पैकेट्स एक ही दिन में खत्म कर देता है. हफ्तेभर में 24 टॉयलेट रोल्स, तीन टूथपेस्ट ट्यब और 80 कटोरी दही आसानी से इस्तेमाल कर लेता है. बच्चों की मां सुए ने बताया कि पहले बच्चे स्कूल जाते थे, तब इतनी परेशानी बिलकुल नहीं होती थी. लेकिन अब दिनभर बच्चे घर पर रहते हैं और खाने की डिमांड करते रहते हैं. यही वजह है कि एक टाइम के खाने में 5 किलो चिकन, 1 किलो पनीर और रोटियों के चार पैकेट की खपत हो जा रही है. जिसके साथ 56 सॉसेज भी सर्व किया जाता है.

कपल ने बताया कि लॉकडाउन के कारण वो हर हफ्ते 40 हजार रुपए का राशन खरीद रहे हैं. अब कमाई इतनी है नहीं और खर्चे कम नहीं होने का नाम ही नहीं ले रहे. इसलिए इस उनके परिवार की हालत बदतर होती जा रही है. सुए कहती है कि ये बच्चे अब ज्यादातर समय भूखे ही रहते हैं, वहीं उनका भी पूरा सारा समय इनके खाने पीने की तैयारी में ही निकल जाता है. इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेस में इनका शोर काफी मुश्किलें पैदा करता है. जब तक वो एक बच्चे को चुप करते हैं, तब तक दूसरा बच्चा रोने लगता है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it