Top
विश्व

यूरोपीय ड्रग रेग्युलेटर ने किया बड़ा दावा: एस्ट्राजेनेका वैक्सीन और खून के थक्कों में है लिंक

Kunti
7 April 2021 5:41 PM GMT
यूरोपीय ड्रग रेग्युलेटर ने किया बड़ा दावा: एस्ट्राजेनेका वैक्सीन और खून के थक्कों में है लिंक
x
यूरोपीय दवा नियामक

जनता से रिश्ता वेबडेस्क: यूरोपीय दवा नियामक ने बुधवार को दावा किया कि इसने एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन और इसे लगवाने वाले कुछ लोगों में खून का थक्का जमने के बीच संभावित लिंक की तलाश कर ली है। एजेंसी ने कहा है कि इसने सभी उपलब्ध सबूतों का विश्लेषण किया है। हालांकि इसने यह भी कहा कि जोखिमों की तुलना में इस टीके के अब भी लाभ अधिक हैं। 'यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी (ईएमए) ने बुधवार को जारी एक बयान में 18 साल और इससे अधिक आयु के लोगों के लिए टीके के इस्तेमाल को लेकर किसी नए प्रतिबंध की घोषणा नहीं की।

यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (EMA) ने कहा कि उसका मूल्यांकन अभी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा है और वर्तमान में समीक्षा जारी है। ईएमए की कार्यकारी निदेशक एमेर कुकी ने कहा, ''एस्ट्राजेनेका का टीका लगाए जाने के बाद रक्त के असामान्य थक्के बनने के कथित मामलों को टीके के संभावित दुष्प्रभावों के रूप में रखा जाना चाहिए।''EMA ने कहा, ''खून के थक्के और कम प्लेटलेट्स के मेल की संभावित व्याख्या इम्यून रिस्पॉन्स के रूप में हो सकती है, जोकि कभी-कभी हेपारिन से मरीजों के इलाज के दौरान दिखती है।'' यूरोपीय एजेंसी के दावे को कोरोना के खिलाफ वैश्विक लड़ाई के लिए झटका माना जा रहा है तो यह रेग्युलेटर के पिछले रुख में बदलाव भी है, जिसने पिछले सप्ताह ही वैक्सीन का समर्थन किया था और कहा था कि टीका लगने के बाद खून का थक्का जमने का जोखिम नहीं बढ़ता है।
यह एस्ट्राजेनेका के लिए भी झटका है, जिसने यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के साथ वैक्सीन की खोज की है और कोरोना के खिलाफ जंग में टीके उतारने वाली अग्रणी कंपनियों में शामिल है। EMA की सेफ्टी कमिटी ने और अधिक अध्ययन की अपील की है। हालांकि, EMA की एग्जीक्युटिव डायरेक्टर एमर कूकी ने कहा, ''कोरोना से मौत का जोखिम इन दुर्लभ साइड इफेक्ट्स से मौत के जोखिम से कहीं अधिक है।'' EMA की सेफ्टी कमिटी की प्रमुख डॉ. साबिन स्ट्रॉस ने कहा, ''यह अप्रत्याशित नहीं है। हम जानते हैं कि टीकाकरण बहुत बड़े पैमाने पर चल रहा है। हम कुछ घटनाएं देखेंगे, इनमें से कुछ संयोग से।''
एस्ट्राजेनेका के टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच ''संभावित संपर्क का पता लगाने के ईएमए के बयान के तुरंत बाद, ब्रिटेन के मेडिसिन रेग्युलेटर ने कहा कि कोरोना वायरस रोधी एस्ट्राजेनेका टीके के व्यापक लाभ हैं, लेकिन रक्त में थक्के बनने के दुर्लभ मामलों के चलते 30 साल से कम उम्र के लोगों को दूसरे टीके की पेशकश की जाएगी।'' देश की 'मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेग्युलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) ने बुधवार को कहा कि जब तक वह एस्ट्राजेनेका टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच संबंध का अध्ययन कर रही है, तब तक संबंधित आयु समूह के लोगों को फाइजर और मॉडर्ना कंपनी के टीके लगाए जाने चाहिए।'' एमएचआरए के प्रमुख, डॉक्टर जून रैने ने कहा कि जोखिम के मुकाबले अधिकतर लोगों में एस्ट्राजेनेका टीके के लाभ अधिक हैं।''


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it