Top
विश्व

वैक्सीनेशन के बावजूद 2021 में ऑस्ट्रेलियाई नागरिक नहीं कर पाएंगे विदेशी यात्रा, सरकार ने बताई वजह

Gulabi
23 Feb 2021 12:06 PM GMT
वैक्सीनेशन के बावजूद 2021 में ऑस्ट्रेलियाई नागरिक नहीं कर पाएंगे विदेशी यात्रा, सरकार ने बताई वजह
x
टीकाकरण के बाद होगी चर्चा

ऑस्ट्रेलिया के नागरिकों (Australian Citizens) को कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) के बावजूद 2021 की छुट्टियों में विदेशों की यात्रा (Travel Overseas) पर लगाए गए प्रतिबंधों (Restrictions) का सामना करना पड़ेगा. सोमवार को स्वास्थ्यकर्मियों (Healthcare Workers), बॉर्डर फोर्स (Border Force) के कर्मचारियों और बुजुर्गों को फाइजर वैक्सीन (Pfizer Vaccine) की खुराक देने के लिए हर राज्य और क्षेत्र में हब (Hub) बनाए गए हैं.


टीके की प्रभाविकता दर 95 प्रतिशत होने के बावजूद वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों ने इस साल छुट्टी पर ऑस्ट्रेलियाई लोगों को विदेश यात्रा की अनुमति दिए जाने की संभावना को कम कर दिया है. वित्त मंत्री साइमन बर्मिंघम आर्थिक रूप से नुकसान झेल रहे देश की सीमाओं को खोलने के पक्ष में नहीं हैं.
टीकाकरण के बाद होगी चर्चा
स्काई न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने सोमवार को कहा कि हमें उम्मीद है कि वायरस का प्रकोप नहीं है लेकिन हमें वास्तविकता को स्वीकार करना होगा कि ये कभी भी हो सकता है. सीनेटर बर्मिंघम की पत्नी कर्टनी मोरकोम्ब, जो दक्षिण ऑस्ट्रेलियाई लिबरल प्रीमियर स्टीवन मार्शल की चीफ-ऑफ-स्टाफ हैं, को उम्मीद थी कि कोरोना के टीके वायरस को फैलने से रोकने के लिए बंद देश की सीमाओं को फिर से खोलने में मदद करेंगे.

सीनेटर ने कहा कि बुजुर्ग और जोखिम के सबसे करीब समूह के टीकाकरण के बाद जोखिम से निपटने में ढील देने के बारे में चर्चा होगी. उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि रिस्क प्रोफाइल में बदलाव हमें सीमाओं को खोलने और अधिक मजबूत आर्थिक सुधार जारी रखने के लिए सक्षम बनाएगा.

जब तक थम नहीं जाती मौतें..
स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट (Health Minister Greg Hunt) ने कोविड से होने वाली स्थानीय मौतें रुकने तक ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों (Australian Citizens) को फिर से विदेश यात्रा करने की अनुमति नहीं दी है. उन्होंने कहा कि हमारा पहला लक्ष्य सुरक्षा है.

उन्होंने सोमवार को घोषणा करते हुए कहा कि सभी ऑस्ट्रेलियाई यात्रियों को अभी भी होटल में क्वारंटीन में रखा जाएगा भले ही विदेश में उन्हें वैक्सीन लगाई गई हो क्योंकि ब्रिटेन, साउथ अफ्रीका और ब्राजील में कोरोना का ऐसा स्ट्रेन फैल रहा है जिस पर वैक्सीन बेअसर साबित हो रही है. उन्होंने कहा कि फिलहाल कुछ समय के लिए वैक्सीन प्राप्त कर चुके और जिन्हें टीका नहीं लगा, दोनों को होटल क्वारंटीन से गुजरना होगा.
प्रधानमंत्री ने लगवाया टीका

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन रविवार को दूसरे ऑस्ट्रेलियाई नागरिक बने जिन्हें फाइजर का टीका लगाया गया. सबसे पहले 84 साल की सिडनी ग्रैंडमदर जेन मैलीसीक को वैक्सीन लगाई गई, जो 13 साल की उम्र में युद्धग्रस्त पोलैंड से ऑस्ट्रेलिया आ गई थीं. प्रधानमंत्री ने सोमवार को कहा कि मुझे कोई साइड इफेक्ट नहीं था. सिर्फ बांह में हल्का दर्द महसूस हो रहा है जैसा कि हर टीकाकरण के बाद होता है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it