विश्व

किताब में दावा: चीन में WhatsApp इस्तेमाल करने पर मुस्लिम महिलाओं को किया जा रहा कैद

Neha
12 Oct 2021 11:03 AM GMT
किताब में दावा: चीन में WhatsApp इस्तेमाल करने पर मुस्लिम महिलाओं को किया जा रहा कैद
x
इस किताब में वेरा झोऊ के अलावा 11 अन्य मुस्लिम महिलाओं का जिक्र ह। जिन्हें पुलिस ने प्री-क्रिमिनल कहा है।

चीन में मुस्लिम महिलाओं पर अत्याचार से जुड़ी सच्चाईयां कई बार उजागर हो चुकी हैं। अब एक किताब में दावा किया गया है कि चीन मुस्लिम महिलाओं को व्हाट्सऐप इस्तेमाल करने पर हिरासत में ले रहा है। चीन ने ऐसी मुस्लिम महिलाओं को प्री-क्रिमिनल्स कहा है। एक नई किताब 'In The Camps: China's High-Tech Penal Colony' में चीन की इस चालबाजी का खुलासा किया गया है।

इस किताब में वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी की एक छात्रा वेरा झोऊ के केस का उदाहरण दिया गया है। वेरा झोऊ को हाल ही में वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) का इस्तेमाल कर अपने स्कूल के जीमेल अकाउंट को खोलने के लिए हिरासत में ले लिया गया था। बताया जा रहा है कि छात्रा ने इस जीमेल अकाउंट को चीन के झिनजियांग में अपना होमवर्क सब्मिट करने के लिए खोला था। छात्रा से जुड़ी यह रिपोर्ट बिजनेस इनसाइडर में पब्लिश की गई थी।
वेरा झोऊ ने बताया कि उन्हें हिरासत में लेने के बाद उनसे कहा गया कि उन्हें री-एजुकेशन क्लास में भेजा जा रहा है। वेरा झोऊ के मुताबिक वो काफी दिनों तक कैद में रहीं और यहां तक कि साल 2018 में नया साल कैद में ही बिताया था। वेरा झोऊ कैंप में करीब 6 महीने तक रही थी। उन्हें इस शर्त पर छोड़ा गया कि उन्हें सोशल स्टैबिलिटी वर्कर को रिपोर्ट करना होगा।
कैंप से छूटने के बाद भी वेरा झोऊ ऐसा महसूस करती थीं कि वो डिजीटली रूप से कैद हैं। वेरा झोऊ को मुस्लिम प्री-क्रिमिनल तक कहा गया। बता दें कि चीन में बनाए गए डिटेन्शन सेंटर में 1 मिलियन उईगर लोग और अन्य मुस्लिम संगठनों से जुड़े लोगों को कैंप में रखा है। कैंपों में रखे गये इन लोगों से जबरन काम कराया जाता है और इनपर कई तरह के जुल्म किये जाते हैं।
'In The Camps: China's High-Tech Penal Colony' नाम की यह किताब मंगलवार को रिलीज कई गई थी। इस किताब में वेरा झोऊ के अलावा 11 अन्य मुस्लिम महिलाओं का जिक्र ह। जिन्हें पुलिस ने प्री-क्रिमिनल कहा है।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it