विश्व

समुद्र पर अपना प्रभाव स्थापित करना चाहता है चीन, जानिए क्या है ड्रैगन का इरादा?

Neha Dani
3 Jan 2022 9:18 AM GMT
समुद्र पर अपना प्रभाव स्थापित करना चाहता है चीन, जानिए क्या है ड्रैगन का इरादा?
x
तीन साल पहले दो और जहाजों के लिए एक कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किए थे.

बीता साल (2021) चीन की नौसेना (Chinese Navy) के लिए अभूतपूर्व रहा. पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (PLAN) ने 2021 में लगभग 170,000 टन के नए जहाजों को नेवी में कमीशन किया. हर साल इस तरह के जहाजों की आमद से लैस होने वाली चीन की आर्मी दुनिया की सबसे आधुनिक और सक्षम नौसेनाओं में से एक बन गई है. आधुनिकता और अपनी सेना को मजबूत बनाने के मामले में चीन ने सभी एशियाई नौसेनाओं को पीछे छोड़ दिया है.

चीन ने पिछले साल नौसेना में- एक टाइप 094A बैलिस्टिक मिसाइल सबमरीन (SSBN), दो टाइप 075 हेलीकॉप्टर लैंडिंग डॉक (LHD), तीन टाइप 055 क्रूजर, सात टाइप 052D विध्वंसक, छह टाइप 056A कोरवेट, छह टाइप 082II माइन काउंटरमेयर वेसल, एक केबल-बिछाने वाला जहाज और तीन टाइप के 927 सर्विलांस शिप शामिल किए. चीन की आर्मी में आधुनिक जहाजों की बड़ी संख्या और विविधता से आत्मविश्वास बढ़ा है.
समुद्र पर अपना प्रभाव स्थापित करना चाहता है चीन
चीन न केवल अपने तट के पास स्थित समुद्र पर अपना प्रभाव स्थापित करना चाहता है, बल्कि तथाकथित प्रथम द्वीप श्रृंखला से बाहर निकलने और दूर के महासागरों पर अपना प्रभुत्व जमाने की भी कोशिश कर रहा है. चीन तेजी से जहाजों का निर्माण करने में लगा हुआ है. पिछले साल दिसंबर में चीन ने पाकिस्तान और थाईलैंड की नौसेना के लिए भी तीन युद्धक जहाज लॉन्च किए थे.
मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि चीन के शंघाई के पास स्थित हुडोंग झोंगहुआ शिपयार्ड ने दो टाइप 054A फ्रिगेट युद्धपोत और एक टाइप 071E लैंडिंग प्लेटफॉर्म डॉक (एलपीडी) को लॉन्च किया. जानकारी के मुताबिक, टाइप 054A फ्रिगेट चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नौसेना (PLAN या चीनी नौसेना) के लिए था. जबकि पाकिस्तानी नौसेना के लिए एक टाइप 054AP है और रॉयल थाई नेवी के लिए एक टाइप 071E एलपीडी था.
पाकिस्तान ने 2017 में चीन के साथ किया था समझौता
टाइप 054A फ्रिगेट चीनी नौसेना का 34वां शिप-इन-क्लास है. टाइप 054AP तुगरिल-श्रेणी का ऐसा चौथा और आखिरी युद्धपोत है, जिसे पाकिस्तान ने चीन से ऑर्डर किया. टाइप 071E एलपीडी थाईलैंड की नौसेना के लिए इस श्रेणी का पहला और अब तक का एकमात्र युद्धक जहाज है. तीनों युद्धपोत एक ही डॉक में बने थे, इसलिए इन्हें एक साथ लॉन्च किया गया. पाकिस्तान की सरकार ने 2017 में दो युद्धपोतों के लिए चीन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. इसके अलावा उसने तीन साल पहले दो और जहाजों के लिए एक कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किए थे.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta