Top
विश्व

बांग्लादेश पहुंचे आर्मी चीफ जनरल नरवणे, मुक्ति संग्राम शहीदों को दी श्रद्धांजलि

Neha
9 April 2021 2:03 AM GMT
बांग्लादेश पहुंचे आर्मी चीफ जनरल नरवणे, मुक्ति संग्राम शहीदों को दी श्रद्धांजलि
x
बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान का जन्म शताब्दी वर्ष मना रहा है.

भारतीय थल सेना के प्रमुख जनरल एम एम नरवणे (MM Naravane) ने गुरुवार को बांग्लादेश के वायु सेना और नौसेना प्रमुखों से मुलाकात की और आपसी हित के विषयों तथा द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के मामलों पर वार्ता की. जनरल नरवणे ने ढाका (Dhaka) में बांग्लादेश के 1971 के मुक्ति संग्राम शहीदों को श्रद्धांजलि भी दी. वह दोनों देशों के सशस्त्र बलों के बीच करीबी संबंधों को और मजबूती प्रदान करने के उद्देश्य से पांच दिन की यात्रा पर बांग्लादेश (Bangladesh) पहुंचे हैं.

नरवणे बांग्लादेश के सेना प्रमुख जनरल अजीज अहमद के आमंत्रण पर ढाका पहुंचे हैं. कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पड़ोसी देश की यात्रा की थी. भारतीय सेना के अतिरिक्त लोक सूचना महानिदेशालय (एडीजी पीआई) ने ट्विटर पर बताया कि जनरल नरवणे ने बांग्लादेशी नौसेना के प्रमुख एडमिरल एम शाहीन इकबाल से मुलाकात की और विभिन्न आपसी हित के विषयों पर उनसे चर्चा की.

'गार्ड ऑफ ऑनर' के साथ हुआ स्वागत
एडमिरल इकबाल से बातचीत के बाद भारतीय सेना प्रमुख ने देश की वायु सेना के कार्यवाहक प्रमुख से मुलाकात की. एडीजी पीआई ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि जनरल नरवणे ने एयर वाइस मार्शल एम अबुल बशर से मुलाकात की जो बांग्लादेश की वायु सेना के कार्यवाहक प्रमुख भी हैं. उन्होंने द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के विषयों पर चर्चा की.
अतिरिक्त लोक सूचना महानिदेशालय ने ट्वीट किया कि जनरल नरवणे ने पांच दिन की अपनी यात्रा के पहले दिन गुरुवार को शिखा अनिर्बान पर मुक्ति संग्राम के शहीदों को श्रद्धांजलि दी. सेनाकुंज में उनका स्वागत गार्ड ऑफ ऑनर के साथ किया गया. भारतीय सेना प्रमुख संयुक्त राष्ट्र शांति सहयोग परिचालन पर एक सेमिनार में अपने अनुभव साझा करेंगे.
बांग्लादेश के विदेश मंत्री से करेंगे मुलाकात
वह संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में चार से 12 अप्रैल तक चल रहे संयुक्त सैन्य अभ्यास शांति अग्रसेना के समापन समारोह में भी शामिल होंगे. जनरल नरवणे 11 अप्रैल को बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए के अब्दुल मोमीन से मुलाकात करेंगे. सेना प्रमुख धनमोंडी में मुजीबुर रहमान स्मारक संग्रहालय का दौरा भी कर सकते हैं जहां वह बांग्लादेश के राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि देंगे. बांग्लादेश इस साल देश के स्वतंत्र होने की स्वर्ण जयंती और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान का जन्म शताब्दी वर्ष मना रहा है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it