विश्व

अफगानिस्तान के आतंकवादियों ने पाकिस्तानी सेना की चौकी पर किया हमला, 3 सैनिक मरे

Neha Dani
24 April 2022 11:28 AM GMT
अफगानिस्तान के आतंकवादियों ने पाकिस्तानी सेना की चौकी पर किया हमला, 3 सैनिक मरे
x
यूएन के मुताबिक टीटीपी के 10,000 आतंकवादी अफगानिस्तान में मौजूद हैं।

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है। पाकिस्तानी सेना ने बताया कि अफगानिस्तान में लड़ाकों ने सीमापार से पाकिस्तान की एक सैन्य चौकी पर भारी हथियारों से हमला किया। इसमें तीन सैनिकों की मौत हो गई। शनिवार को पाकिस्तानी सेना की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि पाकिस्तान के उत्तरी वजीरिस्तान क्षेत्र में हमलावरों के साथ मुठभेड़ हुई जिसमें कई मारे गए। इस तनाव की शुरुआत बीते दिनों पाकिस्तान में आतंकी हमलों के बाद हुई थी जिसके बाद पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में बमबारी की थी।

अल जजीरा की खबर के मुताबिक अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि इस हमले के लिए अफगानिस्तान के कई सशस्त्र समूहों में से कौन जिम्मेदार है। यह घटना ऐसे समय पर हुई है जब अफगानिस्तान लगातार धमाकों से जूझ रहा है। शुक्रवार को उत्तरी कुंदुज प्रांत में एक मस्जिद में हुए धमाके में 33 लोगों की मौत हो गई थी जिसमें पास के एक धार्मिक स्कूल के कई छात्र भी शामिल थे। वहीं गुरुवार को काबुल के अब्दुल रहीम शहीद स्कूल पर हुए हमले में सात बच्चों की मौत हो गई थी।
खैबर पख्तूनख्वा में तीन लोगों की मौत
अफगानिस्तान के साथ-साथ पाकिस्तान भी बीते दिनों एक के बाद एक आतंकवादी हमले से दहल उठा। आतंकवादी लगातार पाकिस्तानी सेना को ही निशाना बना रहे हैं। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में बुधवार को कुछ हमलावरों ने पुलिस चौकी पर हमला किया जिसमें एक पुलिस निरीक्षक समेत तीन लोगों की मौत हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए। आतंकवादियों ने पेशावर और अफगानिस्तान की सीमा से लगे खैबर में अजब तालाब पुलिस चौकी पर हमला किया, इस गोलीबारी में एक पुलिस निरीक्षक और दो राहगीर मारे गए।
आईएसआईएस-के और टीटीपी ने किया नाक में दम
इससे पहले आतंकी हमलों में 8 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे। पाकिस्तान-अफगानिस्तान में बढ़ते आतंकी हमले इस्लामाबाद के साथ-साथ तालिबान सरकार के लिए भी सुरक्षा चुनौती बन चुके हैं। अधिकतर अफगानिस्तान में इस तरह के हमलों के पीछे इस्लामिक स्टेट की अफगान शाखा आईएसआईए-के का हाथ होता है। लेकिन आईएस-के क्षेत्र में इकलौता खतरा नहीं है। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जिसे टीटीपी या पाकिस्तानी तालिबान के रूप में जाना जाता है, ने अपने अफगान ठिकानों से पाकिस्तान की सैन्य चौकियों पर हमले तेज कर दिए हैं। यूएन के मुताबिक टीटीपी के 10,000 आतंकवादी अफगानिस्तान में मौजूद हैं।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta