विश्व

भारतीय मूल के व्यक्ति ने दिखाया बड़ा दिल, लीवर की बीमारी से जूझ रही बच्ची के लिए बना फरिश्ता

jantaserishta.com
10 Feb 2022 5:06 AM GMT
भारतीय मूल के व्यक्ति ने दिखाया बड़ा दिल, लीवर की बीमारी से जूझ रही बच्ची के लिए बना फरिश्ता
x

सिंगापुर. सिंगापुर में भारतीय मूल के सीनियर सेल्स एग्जीक्यूटिव भारतीय मूल (Sakthibalan Balathandautham) को अपने लीवर का एक हिस्सा एक साल की बच्ची को दान करने के लिए "द स्ट्रेट्स टाइम्स सिंगापुरियन ऑफ द ईयर 2021" (The Straits Times Singaporean of the Year 2021) का पुरस्कार मिला है. लीवर दान करने से पहले शक्तिबालन उस बच्ची के परिवार से कभी नहीं मिले थे. इसके बावजूद केवल मानवीयता की भावना से प्रेरित होकर सिंगापुर में भारतीय मूल के सीनियर सेल्स एग्जीक्यूटिव शक्तिबालन बालथंडौथम ने अपने लीवर का 23% हिस्सा बच्ची को दान कर दिया.

बुधवार को सिंगापुर की राष्ट्रपति हलीमा याकूब (Halimah Yacob) से पुरस्कार हासिल करने वाले 28 वर्षीय शक्तिबालन बालथंडौथम ने 30 सितंबर, 2020 को अपने लीवर का 23 प्रतिशत हिस्सा बेबी रिया को दान कर दिया था. बलथंडौथम के लीवर दान के बाद रिया को एक नया जीवन मिल गया है.
जन्म के कुछ हफ्ते बाद ही बीमार हो गई थी बच्ची
रिया का जन्म 2019 में हुआ और उसके जन्म के कुछ सप्ताह बाद उसके लीवर में खराबी का पता चला था. शक्तिबालन बालथंडौथम ने अब उस बच्ची के परिवार के साथ एक मजबूत रिश्ता बनाया है.
शक्तिबालन बालथंडौथम अब अंगदान के पैरोकार बनकर उभरे हैं और अधिक लोगों को आगे बढ़कर जरूरतमंद मरीजों की मदद करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. बालथंडौथम ने कहा, 'बच्ची को लीवर दान करते समय मैंने मन ही मन सोचा कि एक बहुत छोटी लड़की है, जो एक लीवर डोनर की तलाश में है. मुझे लगा कि यह मेरे लिए कदम बढ़ाने और करने का एक मौका है.'
'सिंगापुर ऑफ द ईयर' से सम्मानित
बलथंडौथम को द स्ट्रेट्स टाइम्स सिंगापुरियन ऑफ ईयर 2021 पुरस्कार के रूप में एक ट्रॉफी और 20,000 सिंगापुरी डॉलर नकद से सम्मानित किया गया. द स्ट्रेट्स टाइम्स द्वारा आयोजित सिंगापुर ऑफ द ईयर पुरस्कार हर वर्ष सिंगापुर के एक ऐसे व्यक्ति या समूह को दिया जाता है, जिसने समाज पर असर डाला है.
पुरस्कार समारोह में अपने भाषण में राष्ट्रपति हलीमा ने कहा कि मौजूदा महामारी में जब हमारा रोजाना का जीवन उदास और केवल सांसारिक दिखाई देता है. ऐसे समय में वे हमारी आत्माओं को ऊंचा उठाते हैं और दिखाते हैं कि मानवता के रास्ते में कुछ भी बाधा नहीं बन सकता है. एसपीएच मीडिया ट्रस्ट के अंग्रेजी/मलय/तमिल मीडिया समूह के प्रधान संपादक और स्ट्रेट्स टाइम्स के संपादक वॉरेन फर्नांडीज ने कहा कि हम सभी बलथंडौथम के साहस, उदारता और दूसरों के जीवन में बदलाव लाने के लिए अपने स्वास्थ्य और कल्याण को दांव पर लगाने की इच्छा से प्रेरित हुए थे. वह वास्तव में इस पुरस्कार के योग्य विजेता हैं.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta