विश्व

Spain में घुसने की कोशिश के बाद मची भगदड़ में 18 की मौत

Neha Dani
25 Jun 2022 9:51 AM GMT
Spain में घुसने की कोशिश के बाद मची भगदड़ में 18 की मौत
x
अधिकांश प्रवासियों को वापस जाने के लिए मजबूर किया गया था, उनमें से 130 को एन्क्लेव तक पहुंचने में कामयाब रहे थे।

स्पेन में घुसने की कोशिश के दौरान देश के उत्तर अफ्रीकी एन्क्लेव मेलिला से सटी मोरक्को की सीमा पर शुक्रवार को बाड़ के पास मची भगदड़ में कम से कम 18 अफ्रीकी प्रवासियों की मौत हो गई, जबकि दर्जनों पुलिसकर्मियों समेत कई अन्य घायल हो गए। मोरक्को के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। 2,000 से अधिक उप-सहारा प्रवासियों ने शुक्रवार को मोरक्को और अफ्रीका के एक स्पेनिश एन्क्लेव शहर मेलिला के बीच सीमा को तोड़ने की कोशिश की, उन्होंने बताया कि कुल 133 प्रवासी शुक्रवार को मोरक्को के नाडोर शहर और मेलिला के बीच की सीमा को पार करने में सफल रहे। पिछले महीने स्पेन और मोरक्को के बीच राजनयिक संबंधों में सुधार के बाद पहली बार इतनी बड़ी संख्या में लोगों के सीमा पार करने की घटना सामने आई है।

140 सुरक्षा अधिकारी हुए घायल
नाडोर प्रांत के स्थानीय अधिकारियों का हवाला देते हुए शुक्रवार रात रिपोर्ट में कहा गया है कि घायल प्रवासियों में से कुल 13 की बाद में अस्पताल में मौत हो गई, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो गई। मोरक्को के गृह मंत्रालय ने एक बयान जारी कर बताया कि लोहे की बाड़ पर चढ़ने की कोशिश के दौरान भगदड़ मच गई, जिससे पांच प्रवासियों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई, जबकि लगभग 76 प्रवासी और मोरक्को के 140 सुरक्षा अधिकारी घायल हो गए।
मोरक्को की आधिकारिक समाचार एजेंसी एमएपी ने स्थानीय अधिकारियों के हवाले से बताया कि घायल प्रवासियों में से 13 की बाद में अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो पर पहुंच गई। हालांकि, मोरक्को के मानवाधिकार संघ ने घटना में 27 लोगों की मौत होने का दावा किया है।
वहीं, स्पेन के अधिकारियों ने कहा कि 49 सिविल गार्ड्स को मामूली चोटें आई हैं। उन्होंने बताया कि कुछ प्रवासियों ने पत्थर फेंके, जिससे पुलिस के चार वाहन क्षतिग्रस्त हो गए।
अधिकारियों के अनुसार, जो लोग सीमा पार करने में सफल रहे, वे एक स्थानीय प्रवासी केंद्र पहुंचे, जहां प्राधिकारी उनकी परिस्थितियों का मूल्यांकन करने में जुटे हैं। एन्क्लेव में स्पेनिश अधिकारियों ने कहा कि अधिकांश प्रवासियों को वापस जाने के लिए मजबूर किया गया था, उनमें से 130 को एन्क्लेव तक पहुंचने में कामयाब रहे थे।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta