विश्व

नाव पलटने से 16 लोगों की मौत, भाग रहे थे दूसरे देश

Janta Se Rishta Admin
25 May 2022 1:03 AM GMT
नाव पलटने से 16 लोगों की मौत, भाग रहे थे दूसरे देश
x

म्यांमार से दूसरे देशों में शरण के लिए जा रहे 16 रोहिंग्या की मौत हो गई है. सभी नाव के जरिये दूसरे देश जा रहे थे. रास्ते में तूफान में नाव फंसकर पलट गई जिससे 16 की मौत हो गई. स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक म्यांमार के दक्षिण-पश्चिमी तट पर शनिवार को हुई इस दुर्घटना में 35 लोग जीवित बचे हैं और चार लोग लापता हैं. यूएन की शरणार्थी एजेंसी UNHCR ने दुर्घटना में मारे गए लोगों के प्रति दुख व्यक्त किया.

मालूम हो कि नाव पिछले गुरुवार को पश्चिमी राज्य राखीन से रवाना हुई और म्यांमार के दक्षिण-पश्चिमी तट पर अय्यरवाडी क्षेत्र में खराब मौसम की वजह से पलट गई. म्यांमार में रोहिंग्या को लंबे समय से सताया जा रहा है. राखीन राज्य में रोहिंग्या विद्रोही समूह के हमले के बाद म्यांमार की सेना के क्रूर आतंकवाद विरोधी अभियान से बचने के लिए अगस्त 2017 से 700,000 से अधिक रोहिंग्या देश छोड़कर पड़ोसी देश बांग्लादेश चले गए हैं.

म्यांमार की सरकार ने ऐसे आरोपों से इनकार किया है जिनमें कहा गया था कि सुरक्षा बलों ने सामूहिक बलात्कार और हत्याएं कीं और हजारों घरों को जला दिया. लेकिन अमेरिकी सरकार ने हाल ही में इसे सेना द्वारा किए गए नरसंहार बताया. बांग्लादेश में भीड़-भाड़ वाले शरणार्थी शिविरों में रहने वाले लोगों के साथ, म्यांमार में 100,000 से अधिक रोहिंग्या बचे हैं, जो अवैध विस्थापन शिविरों में कैद हैं. दोनों देशों के शिविरों से रोहिंग्या के समूह बेहतर जीवन की तलाश के लिए मलेशिया और इंडोनेशिया के मुस्लिम-बहुल देशों में जा रहे हैं. यूएनएचसीआर के बयान में कहा गया है कि लगभग 630 रोहिंग्या ने जनवरी से मई 2022 तक बंगाल की खाड़ी में समुद्री यात्रा का प्रयास किया है.

अय्यरवाडी क्षेत्र के एक स्थानीय निवासी ने कहा कि दो युवा लड़कों सहित 16 शव म्यांमार के सबसे बड़े शहर यांगून से लगभग 300 किलोमीटर (180 मील) पश्चिम में पाथेन टाउनशिप के पास बरामद किए गए.

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta