Top
खेल

भारतीय खिलाड़ियों के पैर अंगूठे या पसलियां तोड़ देता: शोएब अख्तर

Gulabi
10 Jun 2021 2:57 PM GMT
भारतीय खिलाड़ियों के पैर अंगूठे या पसलियां तोड़ देता:  शोएब अख्तर
x
शोएब अख्तर ने उगला जहर

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) के एक बयान से सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है. शोएब सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं. इस बार उन्होंने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर अपने फैन्स के सवालों के जवाब दिया. एक फैन के सवाले का शोएब अख्तर ने ऐसा जवाब दिया है जो किसी भी भारतीय फैन को पसंद नहीं आएगा.

शोएब अख्तर ने उगला जहर
दरअसल शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) से इंस्टाग्राम पर एक फैन ने सवाल किया कि अगर अगर आप मोहाली में भारत के खिलाफ 2011 वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल मैच खेलते, तो क्या ऐसा कोई चांस था कि आप 161.3 किमी प्रति घंटे से फेंकी गई अपनी सबसे तेज गेंद का रिकॉर्ड तोड़ डालते?
शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि, 'मैं कुछ खिलाड़ियों के पैर अंगूठे या पसलियां जरूर तोड़ डालता अगर 161.3 वाला रिकॉर्ड नहीं भी तोड़ पाता तो'.
बता दें कि 2011 वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल भारत और पाकिस्तान के बीच मोहाली में खेला गया था, जिसमें टीम इंडिया ने पाकिस्तान को 29 रनों से मात दी थी. उस मैच में सचिन तेंदुलकर ने 85 रनों की पारी खेली थी और मैन ऑफ द मैच चुने गए थे.
शोएब अख्तर, 161.3 KM/H (100.2 मील/ घंटा)
शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) को अपनी तेज तर्रार गेंदबाजी की वजह से रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से जाना जाता था. ऐसा कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा कि शोएब गति के राजा थे. 2002 में ये पाकिस्तानी पेसर 100 मील प्रति घंटा की रफ्तार से बॉल फेंक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज गेंदबाजी करने का रिकॉर्ड बना लिया, जो आज भी कायम है. शोएब ने ये कारनामा इंग्लैंड के खिलाफ 2003 के वर्ल्ड कप के एक मैच के दौरान किया था. बता दें कि अख्तर ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच 2011 में खेला था.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it