Top
खेल

WTC Final में न्यूजीलैंड को मजबूत करेंगी ये दो बातें

Gulabi
10 Jun 2021 4:04 PM GMT
WTC Final में न्यूजीलैंड को मजबूत करेंगी ये दो बातें
x
WTC Final

भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल (ICC World Test Championship Final) में सिर्फ एक सप्ताह का वक्त बाकी है. दोनों टीमें इंग्लैंड में हैं, जहां ये फाइनल मैच खेला जाएगा. तैयारियां भी जोर-शोर से जारी हैं. न्यूजीलैंड की टीम टेस्ट मैच खेल रही है, तो भारतीय टीम (Indian Cricket Team) ने क्वांरटीन में ही पहली बार एक साथ प्रैक्टिस शुरू कर दी है. अब किसकी तैयारी अच्छी रही, इसका पता तो 18 जून से ही चलेगा, लेकिन फिलहाल क्रिकेट विशेषज्ञ तो अपनी राय जाहिर कर ही रहे हैं कि कौन सी टीम इस मुकाबले में भारी पड़ेगी. कई पूर्व क्रिकेटरों की तरह पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज अजीत अगरकर (Ajit Agarkar) का भी मानना है कि परिस्थितियां न्यूजीलैंड के पक्ष में हैं और इसके साथ ही कीवी टीम का तेज गेंदबाजी आक्रमण भी मजबूत है.


न्यूजीलैंड की टीम इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेल रही है. उसके तेज गेंदबाजों ने पहले टेस्ट मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया था. इतना ही नहीं, इंग्लैंड की स्विंग गेंदबाजों के समर्थन वाली परिस्थितियां कीवी गेंदबाजों के लिए अपने देश जैसी ही हैं, जहां वे विरोधी टीमों को घुटनों पर ला देते हैं. ऐसे में अजीत अगरकर का मानना है कि फाइनल में भारत की राह आसान नहीं होगी.


इंग्लैंड के हालात और ड्यूक्स गेंदें न्यूजीलैंड के पक्ष में
भारत के लिए करीब 350 इंटरनेशनल विकेट लेने वाले अगरकर ने स्टार स्पोर्ट्स के शो 'गेम प्लान' में उन चुनौतियों पर चर्चा की जिनका सामना भारत को करना पड़ सकता है. पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, "हालात भी उनके पक्ष में होंगे क्योंकि जब आप इंग्लैंड में खेलते हैं तो ये लगभग वैसे ही होते हैं जैसे न्यूजीलैंड में होते हैं. इससे ड्यूक्स गेंद के साथ आसानी हो जाती है जो स्विंग करती है. इसलिए यह काफी चुनौतीपूर्ण होगा."

न्यूजीलैंड की तेज गेंदबाजी में विवधता फायदेमंद
वहीं न्यूजीलैंड की गेंदबाजी के बारे में बात करते हुए अगरकर ने कहा कि इस टीम के पास काफी विविधता है. अगरकर ने कहा, "निश्चित तौर पर इसमें (न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजी आक्रमण में) काफी विविधता है. मेरे कहने का मतलब ये है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि आप काइल जैमीसन जैसे गेंदबाज को देखिए जो लंबा है और अलग तरह की चुनौती पेश करता है."

जैमीसन जैसे नए गेंदबाज के साथ ही न्यूजीलैंड के पास ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और नील वैगनर जैसे अनुभवी गेंदबाज भी हैं. बोल्ट और साउदी स्विंग का अच्छा इस्तेमाल करते हैं, तो वैगनर मुश्किल एंगल से बाउंसर के इस्तेमाल से बल्लेबाजों को परेशान करते हैं. इस बारे में अगरकर ने कहा, "बोल्ट और साउदी दोनों दायें हाथ के बल्लेबाजों को गेंदबाजी करते हुए एक गेंद बाहर निकालते हैं तो दूसरी अंदर लेकर आते हैं. इसके बाद वैगनर, जब कुछ मदद नहीं मिल रही होती और पिच सपाट होती है तो वह आकर विकेट हासिल करते हैं और नियमित तौर पर वह ऐसा कर रहे हैं. इसलिए चुनौती अलग तरह की होगी."

अलग-अलग खिलाड़ियों से जीतना भारत की ताकत
वहीं भारतीय टीम के बारे में बात करते हुए अगरकर ने कहा, कि विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम का मजबूत पक्ष अलग-अलग खिलाड़ियों के साथ जीतने की क्षमता है. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि जज्बा और अपनी एवं टीम की क्षमता पर विश्वास अहम है. इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज को देखिए, हमने भारत के जीतने की उम्मीद की थी. हां, हालात भारत और उसकी स्पिन गेंदबाजी के अनुकूल थे लेकिन उन्होंने पहला टेस्ट आसानी से गंवा दिया. उन्होंने वापसी की और अगले तीन टेस्ट में इंग्लैंड को आसानी से हराया."

इंग्लैंड को हराने से पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसके ही घर में पहला टेस्ट हारने के बाद सीरीज में मात दी थी. इस बारे में अगरकर ने कहा, ''ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज को देखिए, भारत ने पहला टेस्ट गंवाया, 36 रन पर पूरी टीम आउट हो गई, कई अहम खिलाड़ियों को गंवाया, फिर वह टीम में आपका सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज विराट कोहली हो या सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज मोहम्मद शमी.''

उन्होंने कहा कि यही भारतीय टीम की खासियत है कि कई सीनियर खिलाड़ियों के बिना भी नए खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से सबको चौंकाया और सीरीज जीत कर साबित किया कि टीम की गहराई में कोई कमी नहीं है और टीम में आने वाले खिलाड़ियों को विश्वास था कि वे अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it