खेल

श्रेयस अय्यर ने यहां खेली करियर बनाने वाली पारी, अब टेस्ट में बेस्ट बनने को रखा कदम

Gulabi
25 Nov 2021 6:06 AM GMT
श्रेयस अय्यर ने यहां खेली करियर बनाने वाली पारी, अब टेस्ट में बेस्ट बनने को रखा कदम
x
श्रेयस अय्यर ने भारत के लिए कानपुर टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से टेस्ट डेब्यू किया
श्रेयस अय्यर ने भारत के लिए कानपुर टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से टेस्ट डेब्यू किया. वे भारत के 303वें खिलाड़ी हैं. काफी लंबे इंतजार के बाद श्रेयस अय्यर को टेस्ट डेब्यू का मौका मिला. वे टीम इंडिया की ओर से वनडे और टी20 खेल रहे हैं. श्रेयस अय्यर का कानपुर में टेस्ट डेब्यू करना एक बड़ा संयोग है. सात साल पहले यहीं पर उन्होंने फर्स्ट क्लास करियर की ऐसी पारी खेली थी जिन्होंने उनके करियर को नई दिशा दी थी. अब उसी मैदान पर उन्हें भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में कदम रखने का मौका मिला है. श्रेयस अय्यर शानदार फर्स्ट क्लास करियर के दम पर टेस्ट टीम में आए हैं. उन्होंने 54 मैच में 52.18 की औसत से 4592 रन बनाए हैं.
श्रेयस अय्यर के करियर बदलने वाला मैच साल 2014 में उत्तर प्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के दौरान आया. उस सीजन में मुंबई की टीम संघर्ष कर रही थी. उसे जम्मू कश्मीर ने हरा दिया था. साथ ही रेलवे के हाथों पहली पारी की बढ़त गंवानी पड़ी थी. ऐसे में यूपी के खिलाफ मुकाबला करो या मरो जैसा था. तब श्रेयस अय्यर 19 साल के थे. यूपी के खिलाफ मैच में श्रेयस अय्यर ने बड़ी गलती की. वे अपनी किट होटल में ही भूल आए. फिर मैच के दौरान मुंबई ने 206 रन के जवाब में 53 रन पर पांच विकेट गंवा दिए. ऐसे में अय्यर को शार्दुल ठाकुर की किट पहनकर जाना पड़ा. उन्होंने ताबड़तोड़ अंदाज में बैटिंग की और 75 रन बनाए. इससे मुंबई ने जरूरी बढ़त ली और मैच जीता. इस सीजन में श्रेयस अय्यर ने 809 रन बनाए.
श्रेयस अय्यर ने फिर 2015 के रणजी सीजन में भी बल्ले से कमाल किया और 1321 रन बनाए. इस दौरान वे एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने के वीवीएस लक्ष्मण के रिकॉर्ड से केवल 95 रन दूर रहे. इस सीजन में उन्होंने टीम को खिताब भी दिलाया. श्रेयस अय्यर न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्तमान सीरीज से पहले 2017 में ऑस्ट्रेलिया सीरीज के लिए भी चुने गए थे. तब धर्मशाला टेस्ट से पहले विराट कोहली बाहर हो गए थे और उनके रिप्लेसमेंट के रूप में अय्यर को लिया गया था. हालांकि तब खेलने का मौका नहीं मिला था. इस सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वॉर्म अप मैच में अय्यर ने कमाल किया था. उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की स्लेजिंग सहते हुए नाबाद दोहरा शतक लगाया था.
श्रेयस अय्यर फर्स्ट क्लास क्रिकेट में भी तेजी से रन बटोरने के लिए जाने जाते हैं. 54 फर्स्ट क्लास मैचों में उनकी स्ट्राइक रेट 82 की है. 2015-16 की रणजी ट्रॉफी के फाइनल में उन्होंने 82 की स्ट्राइक रेट से 117 रन की मैच विनिंग पारी खेली थी. वहीं 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोहरा शतक केवल 210 गेंद में लगा दिया था. 2017 में ही न्यूजीलैंड ए के खिलाप दो अनऑफिशियल टेस्ट में उन्होंने 108 और 82 रन की पारियां खेली थीं. ये रन उन्होंने मैट हेनरी, लॉकी फर्ग्यूसन और ईश सोढ़ी जैसे गेंदबाजों के सामने जबरदस्त स्ट्राइक रेट से बनाए.
न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर टेस्ट के जरिए श्रेयस अय्यर 33 महीनों बाद फिर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने जा रहे हैं. उनका आखिरी फर्स्ट क्लास मैच 2019 में ईरानी कप का मैच था. तब वे शेष भारत की तरफ से विदर्भ के खिलाफ खेले थे. अय्यर के टेस्ट डेब्यू में राहुल द्रविड़ का अहम योगदान रहा. द्रविड़ ने इंडिया ए के कोच रहते हुए अय्यर के खेल को देखा था. इसी के चलते केएल राहुल की गैरमौजूदगी में मुंबई के इस बल्लेबाज को मौका दिया गया है.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it