खेल

महान फुटबॉल खिलाड़ी डिएगो माराडोना के डॉक्टर के घर और ऑफिस पर पुलिस की छापेमारी, इलाज के दौरान लापरवाही का आरोप

Admin2
30 Nov 2020 2:21 AM GMT
महान फुटबॉल खिलाड़ी डिएगो माराडोना के डॉक्टर के घर और ऑफिस पर पुलिस की छापेमारी,  इलाज के दौरान लापरवाही का आरोप
x

फाइल फोटो 

अर्जेंटीना के जाने-माने फ़ुटबॉल खिलाड़ी डिएगो माराडोना के डॉक्टर लीयोपोल्डो लुके के क्लिनिक और घर पर पुलिस ने छापेमारी की है

अर्जेंटीना के जाने-माने फ़ुटबॉल खिलाड़ी डिएगो माराडोना के डॉक्टर लीयोपोल्डो लुके के क्लिनिक और घर पर पुलिस ने छापेमारी की है. अर्जेंटीना मीडिया ने इसकी पुष्टि की है. बताया जा रहा है कि पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि माराडोना के इलाज के दौरान किसी प्रकार की लापरवाही तो नहीं की गई थी.

माराडोना का परिवार और वकीलों का मानना है कि डॉक्टर ने इलाज के दौरान लापरवाही की थी. इसी वजह से उनकी जान गई. माराडोना की बेटी ने आरोप लगाया था कि डॉक्टर्स की तरफ से उन्हें सही दवाई नहीं दी गई थी, इसी वजह से उनकी जान गई.

60 वर्ष के माराडोना का 25 नवंबर को हार्ट अटैक की वजह से अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आइरस स्थित उनके घर में निधन हो गया था. माराडोना के वकील मटियास मोरला ने उनके निधन की जानकारी सार्वजनिक की थी. इससे पहले नवंबर महीने की शुरुआत में ही महान फुटबॉलर माराडोना को दिमाग के सफल ऑपरेशन के आठ दिन बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई थी. इसके अलावा शराब की लत छुड़ाने के लिए भी उनका इलाज चल रहा था.

माराडोना के वकील मटियास मोरला ने इस मामले में विस्तृत जांच की मांग की है. मोरला ने कहा है कि माराडोना के घर एम्बुलेंस पहुंचने में 30 मिनट से भी ज्यादा का समय लग गया था. उन्होंने सीधे-सीधे अस्पताल पर इलाज में देरी करने का भी आरोप लगाया है.

'Hand of God' कहे जाते थे माराडोना

माराडोना को दुनिया के महान फुटबॉलरों में गिना जाता है. "Hand of God" के नाम से दुनिया में मशहूर माराडोना ने 1986 में अर्जेंटीना को वर्ल्ड चैम्पियन बनाने में बड़ी भूमिका निभाई थी.

80 और 90 के दशक में फुटबॉल की दुनिया में माराडोना की तूती बोलती थी. माराडोना ने 1977 से 1994 तक अर्जेंटीना के लिए फुटबॉल खेला. FIFA प्लेयर ऑफ दी सेंचुरी पुरस्कार के लिए उन्हें इंटरनेट वोटिंग में पहला स्थान मिला था और उन्होंने पेले के साथ पुरस्कार में साझेदारी की थी. माराडोना ने अकेले अपने दम पर अर्जेंटीना को 1986 का फुटबॉल वर्ल्ड कप जिताया था.

1986 के विश्व कप में डिएगो माराडोना ने हाथ की मदद से गोल किया था. बाद में उन्होंने इसे 'हैंड ऑफ गॉड' यानी ईश्वर का हाथ करार दिया था. माराडोना ने ये गोल इंग्लैड के खिलाफ मैच में किया था. माराडोना 1986 में मैक्सिको में खेले गए विश्व कप में अर्जेंटीना के कप्तान थे.

उन्होंने क्वार्टर फाइनल में अर्जेंटीना की इंग्लैंड के खिलाफ 2-1 से जीत के बाद कहा था, "यह ईश्वर का हाथ यानी 'हैंड ऑफ गॉड' था.' उस विश्व कप में माराडोना के दम पर अर्जेंटीना दूसरी बार चैम्पियन बना था. फाइनल में अर्जेंटीना ने वेस्ट जर्मनी को 3-2 से शिकस्त देकर दूसरी बार इस ट्रॉफी पर कब्जा किया था."


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it