खेल

3 मैचों में जीरो पर आउट फिर किया कमाल, अब भारत के सामने डेब्यू करेंगे ये खिलाड़ी

Gulabi
25 Nov 2021 5:39 AM GMT
3 मैचों में जीरो पर आउट फिर किया कमाल, अब भारत के सामने डेब्यू करेंगे ये खिलाड़ी
x
3 मैचों में जीरो पर आउट फिर किया कमाल
भारत के खिलाफ कानपुर में खेले जा रहे पहले टेस्ट में न्यूजीलैंड ने 22 साल के एक खिलाड़ी को टेस्ट डेब्यू का मौका दिया है. इस खिलाड़ी का नाम है रचिन रवींद्र. भारतीय मूल का यह खिलाड़ी बाएं हाथ का बल्लेबाज और बाएं हाथ के फिरकी गेंदबाज है. न्यूजीलैंड क्रिकेट में रचिन रवींद्र को भविष्य कहा जा रहा है. उनसे काफी उम्मीदें लगाई गई हैं. रचिन अंडर-19 क्रिकेट के रास्ते इंटरनेशनल क्रिकेट में पहुंचे हैं. हाल ही में भारत के खिलाफ टी20 सीरीज में भी वे कीवी टीम का हिस्सा थे. उनके नाम की कहानी सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ से मिलती है. साथ ही क्रिकेट में आने का रास्ता पिता की वजह से खुला. तो जानते हैं इस युवा क्रिकेटर की कहानी.
रचिन रवींद्र के पिता रवि कृष्णमूर्ति अपने बच्चों को क्रिकेटर बनाना चाहते थे. पहले उन्होंने बेटी को क्रिकेट में लाने की कोशिश की लेकिन कामयाबी नहीं मिली. फिर बेटे रचिन को इस फील्ड में दाखिल किया. रवि कृष्णमूर्ति कर्नाटक से आते हैं और वे भी क्रिकेट खेलते थे. वे क्लब लेवल पर जवागल श्रीनाथ और जे अरुणकुमार जैसे लोगों के साथ खेले थे. बाद में वे सॉफ्टवेयर सिस्टम आर्किटेक्ट बन गए और न्यूजीलैंड में बस गए. वे न्यूजीलैंड में क्रिकेट क्लब भी चलाते हैं और इसके जरिए युवा क्रिकेटर्स को भारत दौरे पर लेकर जाते हैं. फिर बैंगलोर, चेन्नई, हैदराबाद जैसी जगहों पर खिलाते हैं. रचिन भी इस टीम का हिस्सा रहते हैं.
रचिन रवींद्र ने न्यूजीलैंड की तरफ से दो बार अंडर-19 वर्ल्ड कप खेला है. पहले 2016 और 2018 में वे अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेले. यहां अपनी फिरकी गेंदबाजी के साथ ही उपयोगी बैटिंग से प्रभावित किया. रचिन के नाम की कहानी भी अनोखी है. उनका शुरुआत नाम सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के नाम के अक्षरों से मिलकर बना है. राहुल से Ra तो सचिन से Chin लिया और इस तरह बन गया Rachin. हालांकि वे इन दोनों की तरह दाएं हाथ के बल्लेबाज नहीं हैं.
रचिन रवींद्र ने साल 2018 में यूएई में पाकिस्तान ए के खिलाफ अपना फर्स्ट क्लास और लिस्ट ए डेब्यू किया था. इस दौरान फर्स्ट क्लास डेब्यू मैच में उन्होंने 70 रन की पारी खेली थी. उनके बारे में पूर्व क्रिकेटर पीटर फुल्टन का कहना है कि रचिन काफी टैलेंटेड है. वह टॉप 3 में बैटिंग कर सकता है और बढ़िया बाएं हाथ का स्पिनर है. न्यूजीलैंड में काफी समय से ऐसा खिलाड़ी नहीं आया है.
रचिन रवींद्र अपने पहले फर्स्ट क्लास सीजन में लगातार तीन मैचों में बिना खाता खोले आउट हो गए थे. लेकिन इसके बाद उन्होंने जोरदार वापसी की थी और रन बनाए थे. उन्हें मानसिक रूप से काफी मजबूत माना जाता है. उन्होंने अभी तक 12 लिस्ट ए मैच में 316 रन बनाए हैं और आठ विकेट लिए हैं. वहीं 28 फर्स्ट क्लास मैचों में उनके नाम तीन शतकों की बदौलत 1595 रन और 25 विकेट हैं.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it