खेल

भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने इस साथी खिलाड़ी को लेकर कई अहम बातों का खुलासा किया

Mohit
1 Jun 2021 7:33 AM GMT
भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने इस साथी खिलाड़ी को लेकर कई अहम बातों का खुलासा किया
x
भारतीय टीम के अहम सदस्‍य रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने अपने साथी खिलाड़ी को लेकर बड़ा बयान दिया है. वो भी उस खिलाड़ी के बारे में जिसके 2019 वर्ल्‍ड कप के लिए टीम इंडिया में चुने जाने को लेकर अच्‍छा खासा बवाल हुआ था.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। इंडियन प्रीमियर लीग के इस सीजन के बचे 31 मैचों के आयोजन के लिए असमंजस की स्थिति खत्‍म हो गई है. अब विराट कोहली की अगुआई में भारतीय क्रिकेट टीम का सारा ध्‍यान न्‍यूजीलैंड के खिलाफ होने वाले आईसीसी वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप के खिताबी मुकाबले पर है. ये मैच इंग्‍लैंड के साउथैंप्‍टन में 18 जून से शुरू होगा. टीम इंडिया (Team India) के खिलाड़ी इंग्‍लैंड के लिए 2 जून को रवाना होंगे. हालांकि इस बीच भारतीय टीम के अहम सदस्‍य रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने अपने साथी खिलाड़ी को लेकर बड़ा बयान दिया है. वो भी उस खिलाड़ी के बारे में जिसके 2019 वर्ल्‍ड कप के लिए टीम इंडिया में चुने जाने को लेकर अच्‍छा खासा बवाल हुआ था.

दरअसल, रविचंद्रन अश्विन ने भारतीय क्रिकेटर और तमिलनाडु टीम के अपने साथी खिलाड़ी विजय शंकर को लेकर कई बातें कहीं हैं. अश्विन ने न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में कहा, विजय शंकर एक अच्‍छे खिलाड़ी हैं जिन्‍होंने वर्ल्‍ड कप भी खेला है और उनके पास काफी अनुभव भी है. लेकिन उन्‍हें अपने करियर में कई चोटों का सामना करना पड़ा और चोटिल होने की बात को समझने के लिए मुझसे बेहतर इंसान दूसरा नहीं हो सकता. कई बार लोग चोटों को लेकर ज्‍यादा संवेदनशील नहीं होते. बेशक विजय शंकर संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन वो इससे उबरने का रास्‍ता तलाश लेंगे कि कैसे चोटों से दूर रहना है.
सीनियर्स को सही भूमिका देने की बात
रविचंद्रन अश्विन ने साथ ही कहा, जब आपकी उम्र बढ़ रही हो तो चोटों को मैनेज करना आसान नहीं होता. विजय अब 30 या 31 साल के हो गए हैं और जब आप बूढ़े हो रहे हों तो चोटों को मैनेज करना बहुत मुश्किल हो जाता है. अश्विन और विजय शंकर तमिलनाडु क्रिकेट टीम के लिए लंबे समय से साथ खेल रहे हैं. अश्विन ने तमिलनाडु क्रिकेट के बारे में आगे कहा, हमें सही भूमिका देने और युवाओं और सीनियर्स के बीच संतुलन पर ध्‍यान रखना चाहिए. हमें विजय शंकर का अनुभव युवाओं के साथ बांटने की ओर देखना होगा. अगर हम युवाओं को ज्‍यादा मौके देने के लिए टीम में सही संतुलन स्‍थापित कर पाते हैं तो ये तमिलनाडु क्रिकेट के लिए अच्‍छा होगा. अश्विन के अनुसार, बी. इंद्रजीत, बी. अपराजित और विजय शंकर कई सालों से तमिलनाडु क्रिकेट के लिए रीढ़ की हड्डी रहे हैं. लेकिन इनके साथ ही कई युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी भी सामने आ रहे हैं. ऐसे में बात भूमिका बांटने और सीनियर्स को सही भूमिका देने की है.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta