खेल

ICC के नव-निर्वाचित अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने स्वीकार कि महत्वाकांक्षी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप ने वह हासिल नही किया

Bharti sahu
30 Nov 2020 8:52 AM GMT
ICC के नव-निर्वाचित अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने स्वीकार  कि महत्वाकांक्षी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप ने वह हासिल नही किया
x
इसी महीने आइसीसी के चेयरमैन का कार्यबार संभालने वाले बार्कले ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "संक्षेप में कहूं तो मुझे ऐसा नहीं लगता।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानी ICC के नव-निर्वाचित अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने सोमवार को स्वीकार किया कि महत्वाकांक्षी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप ने वह हासिल नहीं किया है, जो इसका उद्देश्य है। COVID-19 के कारण इसकी कमियां भी सामने आई हैं। विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के मैचों पर कोरोना वायरस का असर पड़ा है और ऐसे में आइसीसी ने नियमों में बदलाव किया है, क्योंकि लॉर्ड्स में अगले साल होने वाले फाइनल से पहले सभी सीरीज पूरी नहीं होंगी।

ICC के नव-निर्वाचित अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने स्वीकार कि महत्वाकांक्षी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप ने वह हासिल नही किया इसी महीने आइसीसी के चेयरमैन का कार्यबार संभालने वाले बार्कले ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "संक्षेप में कहूं तो मुझे ऐसा नहीं लगता। COVID ने शायद चैंपियनशिप की अपनी कमियों को उजागर किया है।" न्यूजीलैंडर का मानना ​​है कि मौजूदा क्रिकेटिंग कैलेंडर के साथ बहुत सारी समस्याएं विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के कारण हैं, जो कि प्रारूप के लोकप्रिय होने के लिए फिट की गई थीं, लेकिन उसके अनुसार नहीं हुआ।


उन्होंने कहा, "वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप को टेस्ट क्रिकेट में रुचि वापस लाने के लिए शुरू किया गया था। कुछ टेस्ट मैचों ने इसमें प्रासंगिकता प्रदान की, लेकिन ज्यादा सफलता नहीं मिली। यह सिद्धांत में अच्छा था, लेकिन व्यवहार में संभवत: फ्लॉप हो गया। मैं इससे असहमत हूं, मुझे यकीन नहीं है कि क्या यह हासिल कर चुका है कि इसका इरादा क्या करना है।" बार्कले ने यह भी संकेत दिया है कि उद्घाटन वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप अंतिम भी हो सकती है, क्योंकि छोटे देश इसे अपना नहीं सकते।

बार्कले का मानना है कि छोटे देश ही नहीं, बल्कि बड़े देश भी इससे सहमत नहीं होंगे और न ही क्रिकेटर इतनी क्रिकेट खेल पाएंगे, क्योंकि मौजूदा क्रिकेट कैलेंडर में लगातार एक के बाद एक सीरीज हैं।" वहीं, जब उनसे पूछा गया कि क्रिकेट कैलेंडर में काफी व्यस्त है। ऐसे में क्रिकेटरों का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य भी ध्यान में रखना होगा। इसके जवाब में उन्होंने कहा, "आपका विचार सही है, मुझे लगता है कि क्रिकेट के सभी प्रारूपों को ध्यान में रखने की आवश्यकता है। आप सही हैं, कैलेंडर तेजी से भीड़भाड़ वाला बन रहा है।"

उन्होंने कहा, "मैं इस बात का सम्मान करता हूं कि प्रत्येक देश को अपनी घरेलू लीग विकसित करने का अधिकार है, क्योंकि यह आइसीसी की आवश्यकताओं को पूरा करता है और ठीक से स्वीकृत है। स्पष्ट रूप से खेल के दृष्टिकोण और व्यावसायिक भागीदारी के दृष्टिकोण की भी मांग है। तो चलिए स्वीकार करते हैं कि घरेलू लीग यहां रह सकती हैं। आइपीएल, बीबीएल और सीपीएल जैसे वास्तव में रोमांचक लीग में सभी का जबरदस्त योगदान रहा है।"


Next Story