Top
विज्ञान

वैज्ञानिकों ने रेडियो तरंगों से खोले कई रहस्य, सौर मंडल के इस ग्रह पर सबसे लंबा होता है दिन

Kunti
5 May 2021 9:53 AM GMT
वैज्ञानिकों ने रेडियो तरंगों से खोले कई रहस्य, सौर मंडल के इस ग्रह पर सबसे लंबा होता है दिन
x
वैज्ञानिकों ने हमारे सबसे पड़ोसी ग्रह शुक्र के बारे में जानने के लिए रेडियो वेव की मदद ली है।

वॉशिंगटन: वैज्ञानिकों ने हमारे सबसे पड़ोसी ग्रह शुक्र के बारे में जानने के लिए रेडियो वेव की मदद ली है। उससे रेडियो वेव टकराकर उसके बारे में कई अहम बातें जानने की कोशिश की गई है। इनमें से एक है शुक्र पर एक दिन की लंबाई। इस स्टडी में शुक्र की धुरी और उसकी अंदरूनी कोर के साइज को भी नापा गया है। इससे 'धरती के जुड़वा' ग्रह के बारे में गहराई से जानने का मौका मिला है।

कुछ आसान सवालों के जवाब देकर जीतिए बड़ा इनाम
स्टडी में पाया गया है कि शुक्र एक चक्कर में धरती के 243.0226 दिन के बराबर समय बिताता है। यानी कि यहां एक दिन करीब एक साल के बराबर होता है। यह सूरज का एक चक्कर 225 दिन में पूरा करता है रिसर्चर्स ने 2006 से 2020 के बीच 21 बार रेडियो वेव शुक्र को भेजीं। मोहावे रेगिस्तान में NASA के गोल्डस्टोन ऐंटेना से भेजी गईं वेव से पैदा हुई गूंज को स्टडी किया गया और इससे कई जानकारियां मिलीं।
कैसे किया स्टडी?
UCLA प्लैनेटरी ऐस्ट्रोनॉमर जीन लू मार्गो ने बताया कि शुक्र पर फ्लैशलाइट की तरह वेव फेंकी गईं और धरती ऑब्जर्व किए गए इनके रिफ्लेक्शन को स्टडी किया गया। उन्होंने बताया कि ग्रहों के बनने और विकसित होने को समझने के लिए शुक्र एक बेहतरीन लैब है। गैलेक्सी में शुक्र जैसे अरबों ग्रह हो सकते हैं। नए डेटा से पता चला है कि शुक्र की कोर का व्यास 4,360 मील है। इससे पहले कोर से जुड़ी जानकारी कंप्यूटर मॉडल के आधार पर थी, ऑब्जर्वेशन से नहीं।
और क्या मिला?
इसकी कोर में लोहा और निकेल होने की संभावना है। हालांकि, यह साफ नहीं है कि यह ठोस है या पिघला। यह अपनी धुरी पर सीधे घूमता है जबकि धरती कुछ झुकी हुई है। इसका वायुमंडल मोटा और जहरीला है। इसमें कार्बन डायऑक्साइड और सल्फ्यूरिक एसिड है। इसका तापमान 880 डिग्री फाहरेनहाइट तक होता है। यह पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it