विज्ञान

शोधकर्ताओं का कहना- जलवायु परिवर्तन के बदलावों के कारण पृथ्वी में जीवन पर पड़ रहा असर...पक्षियों को हो रही तालमेल बिठाने में मुश्किल

Gulabi
10 Oct 2020 12:46 PM GMT
शोधकर्ताओं का कहना- जलवायु परिवर्तन के बदलावों के कारण पृथ्वी में जीवन पर पड़ रहा असर...पक्षियों को हो रही तालमेल बिठाने में मुश्किल
x
ग्लोबल वार्मिंग का हमारे ग्रह पर बहुत गहरा असर हो रहा है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) का हमारे ग्रह (Earth) पर बहुत गहरा असर हो रहा है. तापमान में वृद्धि (Rise in Temperature) के कारण मौसम (Weather) के हालात इस तरह से बदल रहे हैं कि इससे प्राणियो (organisms) को अपना अस्तित्व बचाने के लिए नई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. गर्म होते ग्रह के अनुकूल ढलना समय के साथ मुमकिन हो सकता है, लेकिन कुछ पक्षियों (Birds) के लिए जलवायु परिवर्तन (Climate Change) के अनुसार केवल अपने जीवन चक्र में ही बदलाव करना कई तरह के खतरे पैदा कर रहा है.

मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल बिहेवियर और कॉर्नेल यूनिवर्सिटी का यह अध्ययन PNAS में प्रकाशित हुआ है. इस अध्ययन में पाया गया है कि जो पक्षी (Birds) वसंत (Spring) के मौसम की शुरुआत में प्रजनन (Breeding) करते थे उन्हें जलवायु परिवर्तन (Climate changes) संबंधी बदलाव के अच्छे नतीजे देखने को नहीं मिल रहे हैं. ऐसे पक्षियों को खराब मौसमी हालात, खाने में कमी और यहां तक उनकी खराब मृत्यु दर तक का सामाना करना पड़ रहा है.

टीम ने न्यूयॉर्क के इथाचा में छोटे पेड़ों (Shallow trees) की जनसंख्या का अध्ययन किया जो एक तीस सालों के प्रयोग का विषय था. जिसमें यहां की जीवों का प्रजनन (Reproduction), कीटों की प्रचुरता (Insect abundance) और मौसमी हालातों (Weather conditions) का अध्ययन करना शामिल था. कॉर्नेल यूनिवर्सटी की प्रोफेसर मारेन वितोउसेक ने बताया कि इस तरह के लंबी अवधि वाले अध्ययन प्रजातियों पर जलवायु परिवर्तन

इस शोध के प्रमुख लेखक मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के रियान शिपले का कहना है कि जलवायु परिवर्तन (Climate change) के पहले के समय के बारे में जानना बिना जोखिम का काम नहीं है. हाल के अध्ययनों में इस बात की चिंता जताई गई है कि क्या प्रजातियां (Species) जलवायु परिवर्तन के अनुसार वाकई खुद को ढाल सकती भी हैं या नहीं. इनमें खास तौर पर समय के अनुसार विस्थापन (Migration) और प्रजनन (Reproduction) जैसे चक्र बहुत प्रभावित होते हैं.

शोधकर्ताओं का कहना है कि जलवायु परिवर्तन (Climate change) के कारण अब मौसम बदलने से पहले प्रजनन (Rproduction) के प्रयास करना जानवरों के लिए ज्यादा जोखिम भरा है. उन्होंने पाया की छोटे पेड़ों के इलाकों में पिछले तीस सालों में प्रजनन तीन दिन प्रति दशक बढ़ गया है. लेकिन समय से पहले प्रजनन करना उसमें उनके भोजन की उपलब्धता (Food Availability) कम होने से भी प्रभावित हो रहा है.

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it