Top
विज्ञान

नया खोज! क्या नीले रंग का शहद भी देती हैं मधुमक्खियां, जानें क्या है माजरा

Triveni
11 Jun 2021 6:13 AM GMT
नया खोज! क्या नीले रंग का शहद भी देती हैं मधुमक्खियां, जानें क्या है माजरा
x
दुनिया भर में शहद या मधु (Honey) की काफी मांग रहती है. शहद केवल मधुमक्खियां (Bees) ही बना पाती हैं.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क| दुनिया भर में शहद या मधु (Honey) की काफी मांग रहती है. शहद केवल मधुमक्खियां (Bees) ही बना पाती हैं. सुनहरे रंग का शहद सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद बताया जाता है. लेकिन बहुत कम लोगों को यह बात पता है कि शहद नीले रंग का भी होता है. ये शहद भी मधुमक्खियां बना सकती हैं. मजेदार बात यह है यह सब एक संयोग से हुआ और मधुमक्खीपालकों (beekeepers) ने पाया की उनकी मधुमक्खियां अचानक ही नीला शहद बनाने लगीं. पड़ताल करने पर उन्होंने जो देखा वह बहुत हैरान करने वाला था.

फ्रांस की घटना
यह मामला ज्यादा पुराना नहीं हैं. साल 2012 में उत्तरपूर्वी फ्रांस में मधुमक्खीपालकों ने देखा कि उनकी मधुमक्खियों ने अचानक ही रहस्यमय तरीके से अलग ही रंग का शहद बनाना शुरू कर दिया है. रिबेयूविले कस्बे के मधुमक्खीपालकों ने पाया कि उनकी मधुमक्खियां एक असामान्य रंगीन पदार्थ के साथ अपने छ्त्ते में लौट रही हैं जिसकी वजह से उनके शहद का अप्राकृतिक नीला रंग हो गया.
पड़ताल करने पर पाया
मधुमक्खीपालकों ने यह जानने की पूरी कोशिश की कि आखिर यह सब हो कैसे रहा है. कुछ महीनों बाद उन्होंने इसका कारण खोज निकाला. उन्होंने पाया कि मधुमक्खियां कस्बे के पास स्थित बायोगैस संयंत्र के कचरे को खा रही हैं जिससे वे यह खास रंग का शहद बना पा रही हैं.
बंद कर दी गई यह प्रक्रिया
यह बायोगैस संयंत्र एक रंगीन चॉकलेट बनाने वाली कंपनी के संयंत्र से निकलने वाले कचरे को प्रक्रमण करती है. कंपनी इसकी रोकथाम के लिए फौरन कदम ऊठाए और उस कचरे को लीक होने की प्रक्रिया को बंद कर दिया जहां मधुमक्खियां आकर बैठा करती थीं. इसके बाद कंपनी ने बयान भी जारी किया कि वह कचरे का समुचित और सुरक्षित प्रबंधन करेगी.
खाने पीने के लिए अद्भुत तरीके से सूंढ़ का उपयोग करते हैं हाथी
नहीं बनता ऐसा शहद
यह शहद बेचने योग्य नहीं होता है और इससे मधुमक्खी पालकों को सबसे बड़ी समस्या यह आती है कि इससे मधुमक्खियों के मरने की संख्या बढ़ने लगती है. फ्रांस यूरोप का सबसे बड़ा शहद उत्पादनकर्ता है. फ्रांस सरकार पहले ही एक कीटनाशक पर प्रतिबंध लगा चुकी है जिससे मधुमक्खियों की कम होती जनसंख्या को रोका जा सके.
अमेरिका में भी नीला शहद
दिलचस्प बात यह है कि इससे पहले भी अमेरिका के कैलीफोर्निया में मधुमक्खियों के अचानक ही नीला शहद बनाने की खबर आई थी. उसकी पड़ताल में इतना ही पता चला है कि मधुमक्खियां ऐसा पराग लाने लगी हैं जिससे इसका रंग नीला हो जाता था. कुछ शोध कहते हैं कि यह पराग नीले फूलों का होता है. एक मामले में पाया गया कि पास की वाइन फैक्टरी से मधुमक्खियां ये पराग लाती है.
सूर्य की रोशनी में आसानी से झपट लेता है ये पंछी अपना शिकार- शोध ने बताया क्यों
एक दूसरे तरह का नीला शहद भी
उल्लेखनीय है कि नीला शहद एक और तरीके से भी तैयार किया जाता है. इसके लिए आम शहद में मशरूम डाला जाता है जिसके कुछ समय बाद शहद मशरूम से नीला-भूरा रंग ले लेता है और शहद नीले और भूरे रंग का हो जाता है. लेकिन शहद में इस खास मशरूम को दो महीने के आसपास के लंबे समय तक रखना पड़ता है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it