Top
धर्म-अध्यात्म

इस माघ पूर्णिमा ये उपाय कर पाएं आर्थिक परेशानियों से निदान

Mohit
22 Feb 2021 5:32 PM GMT
इस माघ पूर्णिमा ये उपाय कर पाएं आर्थिक परेशानियों से निदान
x
माघ पूर्णिमा तिथि 27 फरवरी शनिवार के दिन पड़ रही है। हिन्दू धर्म में इस तिथि का विशेष महत्व है

जानता से रिश्ता वेबडेस्क | माघ पूर्णिमा तिथि 27 फरवरी शनिवार के दिन पड़ रही है। हिन्दू धर्म में इस तिथि का विशेष महत्व है। हिन्दू मान्यता के अनुसार माघ पूर्णिमा पर स्नान करने वाले मनुष्यों पर भगवान माधव प्रसन्न रहते हैं और उन्हें सुख-सौभाग्य, धन-संतान और मोक्ष प्रदान करते हैं। माघ पूर्णिमा पर दान, हवन, व्रत और जप किए जाते हैं। इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से जातकों को कई प्रकार के शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं -

तुलसी पौधे की करें आराधना
पूर्णिमा की रात को माता लक्ष्मी के स्वागत करने के लिए पूर्णिमा की सुबह-सुबह स्नान कर तुलसी को भोग, दीपक और जल अवश्य चढ़ाएं। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है। इसके अलावा पूर्णिमा पर माता लक्ष्मी के मंत्र का जाप भी करना चाहिए।
मन की शांति पाने के लिए करें उपाय
मानसिक शांति पाने के लिए पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के समय चन्द्रमा को कच्चे दूध में चीनी और चावल मिलाकर "ॐ स्रां स्रीं स्रौं स: चन्द्रमसे नम:" या " ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:. " मंत्र का जप करते हुए अर्घ्य देना चाहिए। ऐसा करने से आपकी मानसिक समस्याएं खत्म हो जाती हैं।
आर्थिक लाभ पाने के लिए करें यह काम
पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की प्रतिमा पर 11 कौड़ियां चढ़ाकर उन पर हल्दी से तिलक करें। अगले दिन इन कौड़ियों को एक लाल कपड़े में बांधकर वहां रख दें जहां आप अपना धन रखते हैं। ऐसा करने से घर में कभी भी धन की कमी नहीं रहेगी।
दांपत्य जीवन में मधुरता के लिए करें ये उपाय
पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाने और दांपत्य जीवन में मधुरता लाने के लिए माघ पूर्णिमा के दिन व्रत करने के साथ चंद्रोदय होने के बाद दोनों पति-पत्नी को संयुक्त रूप से गाय के दूध से चंद्रमा को अर्घ्य देना चाहिए। इससे दंपत्य जीवन सुखमय रहता है।
दांपत्य जीवन में मधुरता के लिए करें ये उपाय
पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाने और दांपत्य जीवन में मधुरता लाने के लिए माघ पूर्णिमा के दिन व्रत करने के साथ चंद्रोदय होने के बाद दोनों पति-पत्नी को संयुक्त रूप से गाय के दूध से चंद्रमा को अर्घ्य देना चाहिए। इससे दंपत्य जीवन सुखमय रहता है।
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it