धर्म-अध्यात्म

शनिदेव की कुदृष्टि से बचने के लिए शनिवार को करें ये आसान स्तुति का पाठ

Subhi
23 Oct 2021 3:27 AM GMT
शनिदेव की कुदृष्टि से बचने के लिए शनिवार को करें ये आसान स्तुति का पाठ
x
हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार शनिवार का दिन कर्मफल दाता भगवान शनि को समर्पित किया गया है। शनिदेव व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुरूप ही फल प्रदान करते हैं।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार शनिवार का दिन कर्मफल दाता भगवान शनि को समर्पित किया गया है। शनिदेव व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुरूप ही फल प्रदान करते हैं। लेकिन यदि शनिदेव किसी से नाराज हो जाएं तो उनकी कुदृष्टि से जीवन नर्क के समान हो जाता है। हर तरफ मुसीबत के बादल दिखाई देने लगते हैं। इसीलिए शनि के प्रकोप से बचने के व्यक्ति तरह - तरह के उपाय करता है। शनि के प्रकोप से मनुष्य क्या, देव और दानव भी नहीं बच सकते हैं। लेकिन जीवन में शनि की दशा सही होने पर किसी भी तरह का कष्ट नहीं होता है। आइये जानते हैं भगवान शनि को प्रसन्न करने के कुछ ऐसे उपाय, जिनको नियमित रूप से करने पर आपको जीवन में कभी भी शनिदेव की कुदृष्टी का सामना नहीं करना पड़ेगा....

1-शनिवार के दिन शनि यंत्र की स्थापना करके प्रतिदिन इसकी विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए। इस यंत्र के सामने हर दिन सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए।
2. प्रत्येक शनिवार को शाम के समय पीपल या बरगद के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। इससे भगवान शनिदेव भक्तों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखते हैं।
3. शनि महाराज को खुश करने के लिए शमी वृक्ष को घर में लगाएं इससे शनिदेव का कृपा होगी। मनोकामनाएं पूर्ण हो जाएंगी।
4. हर शनिवार के दिन काले कुत्तों को रोटी खिलाएं। काले वस्तुओं का दान करें। भगवान शनि को काला रंग बहुत पंसद हैं।
5.शनिवार के दिन किसी शनि मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जला कर शनिदेव की स्तुति का पाठ करना चाहिए।
शनि देव की स्तुति
नम: कृष्णाय नीलाय शितिकंठनिभाय च।
नम: कालाग्रिरूपाय कृतान्ताय च वै नम:॥
नमो निर्मासदेहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta