धर्म-अध्यात्म

Nag Panchami 2021: सावन के नाग पंचमी पर इन उपायों को आजमाकर देखें, सांप रहेंगे घर से दूर

Kunti Dhruw
12 Aug 2021 9:12 AM GMT
Nag Panchami 2021: सावन के नाग पंचमी पर इन उपायों को आजमाकर देखें, सांप रहेंगे घर से दूर
x
अक्‍सर बरसात के इस मौसम में जिन लोगों के घर काफी पुराने हो चुके हैं

अक्‍सर बरसात के इस मौसम में जिन लोगों के घर काफी पुराने हो चुके हैं. या फिर टूटे-फूटे हैं या फिर जो स्‍थान जंगल से सटे हैं वहां पर सांप निकल आते हैं। देश के कुछ हिस्‍सों में आज यानी सावन मास के कृष्‍ण पक्ष की पंचमी को नागपंचमी के रूप में मनाया जा रहा है तो वहीं कुछ राज्‍यों में नागपंचमी 13 अगस्‍त को मनाई जाएगी। इस अवसर पर हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे उपाय जिनको करने से सांप आपके घरों से दूर रहेंगे।

इस मंत्र का जप
सर्पापसर्प भद्रं ते गच्छ सर्प महाविष। जन्मेजयस्य यज्ञान्ते आस्तीक वचनं स्मर।। आस्तीकवचनं समृत्वा यः सर्प न निवर्तते। शतधा भिद्यते मूर्धि्न शिंशपावृक्षको यथा।।
इस मंत्र के जप से सर्प भय दूर होता है। जिन घरों में लोग इस मंत्र को नियमित बोलते हैं उस घर में सांप नहीं आते। यह भी मान्यता है कि अगर घर में सांप आ जाए तो इस मंत्र को बोलने से सर्प तुरंत चला जाता है। नागपंचमी के दिन नाग पूजा के साथ इस मंत्र को बोलें। इस मंत्र के प्रभाव से सर्पदंश का भय भी दूर होता है।
गाय के गोबर का टोटका
गाय के गोबर को हिंदू धर्म में बहुत ही शुद्ध और पवित्र माना जाता है और हर पूजापाठ और शुभ कार्य में गाय के गोबर का प्रयोग किया जाता है। नागपंचमी के दिन घर के मुख्य द्वार पर दीवार के दोनों ओर गाय के गोबर से नाग बनाएं। उसके बाद इन नागों पर थोड़ा सा कच्‍चा दूध चढ़ाएं और लावा चढ़ाएं।
तांबे के नाग नागिन
धार्मिक दृष्टि से तांबे को बेहद शुभ धातु माना जाता है। नागपंचमी के दिन तांबे के नाग‍-नागिन की पूजा किया जाना बहुत अच्‍छा माना जाता है। नागपंचमी के दिन आप भी विधि-विधान से तांबे के नाग-नागिन की पूजा करें और पूजा के बाद इन नागिन को अपने धन के स्‍थान में रख लें।
नाग गायत्री मंत्र
ओम नवकुलाय विद्यमहे विषदंताय धीमहि तन्नो सर्प: प्रचोदयात् ।।
'सर्वे नागा: प्रीयन्तां मे ये केचित् पृथ्वीतले। ये च हेलिमरीचिस्था ये न्तरे दिवि संस्थिता:।। ये नदीषु महानागा ये सरस्वतिगामिन:। ये च वापीतडागेषु तेषु सर्वेषु वै नम:।।'
नागपंचमी के दिन इस मंत्र से नाग देवता का ध्यान करना चाहिए। अगर आप इस मंत्र का जप करने में कठिनाई महसूस करें तो ऐसे बोलें- जो नाग पृथ्वी में, आकाश में, स्वर्ग में, सूर्य की किरणों में, सरोवरों में, वापी में, कूप, तालाब में रहते हैं उन सभी को मेरा नमस्कार है। इस मंत्र को बोलने के साथ ही नागपंचमी के दिन नींबू और नीम के पत्ते चबाना चाहिए। नाग पंचमी के दिन इन मंत्रों विधियों से नाग पंचमी की पूजा करने से नाग नाग लोक के नाग प्रसन्न होते हैं मान्यता है कि इससे नाग भय भी दूर होता है और घर में धन धान्य की वृद्धि होती है।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta