धर्म-अध्यात्म

Garuda Purana : इन संकेतों से व्यक्ति झूठ बोल रहा है या सही करें पहचान

Bhumika Sahu
14 Oct 2021 5:40 AM GMT
Garuda Purana :  इन संकेतों से व्यक्ति झूठ बोल रहा है या सही करें पहचान
x
गरुड़ पुराण में ऐसी तमाम बातें कही गई हैं, जो पूरी तरह से व्यवहारिक हैं. इन्हें जीवन में आजमाकर तमाम मुश्किलों को टाला जा सकता है. यहां जानिए व्यक्ति की उन भाव भंगिमाओं के बारे में जो आपको ये बता सकती हैं कि व्यक्ति झूठ बोल रहा है या सत्य.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। गरुड़ को भगवान विष्णु का वाहन माना जाता है. मान्यता है कि एक बार गरुड़ ने भगवान विष्णु से जीवन और मरण से संबन्धित तमाम प्रश्न पूछे थे, जिसके नारायण से सविस्तार उत्तर दिए. इस दौरान भगवान विष्णु ने जीवन को बेहतर बनाने के तरीके बताने के साथ मृत्यु के समय की स्थिति और इसके बाद की स्थितियों का वर्णन किया.

पक्षीराज गरुड़ और भगवान विष्णु के बीच की इसी वार्ता का विस्तार पूर्वक जिक्र गरुड़ पुराण में किया गया है. गरुड़ पुराण में बताई गई तमाम बातों का अनुसरण करने वाला व्यक्ति अपने जीवन को बेहतर बना सकता है, भविष्य में आने वाले तमाम खतरों को रोक सकता है. इसके अलावा मृत्यु के बाद भी सद्गति को प्राप्त कर सकता है. यहां जानिए उन संकेतों के बारे में जिनसे आप व्यक्ति के झूठ को आसानी से पकड़ सकते हैं.
बॉडी लैंग्वेज
अगर आप किसी से बात कर रहे हैं, तो गौर करें कि वो आपकी बात पर गंभीर है या नहीं. यदि वो गंभीर नहीं है तो हो सकता है कि उसका ध्यान कहीं और हों. इसके अलावा बात करते समय अगर व्यक्ति के कंधे झुके हों, हाथ कांप रहे हों, तो आप समझ सकते हैं कि व्यक्ति झूठ बोल रहा है.
शारीरिक गति में बदलाव
जब व्यक्ति झूठ बोलता है तो उसकी शारीरिक गति में भी बदलाव आता है. जो धीरे बोलता है वो हो सकता है कि हड़बड़ाहट में अपनी बात रखे या बोलते समय लड़खड़ाए. वहीं जो जल्दी-जल्दी काम करता है, हो सकता है कि वो सुस्त हो जाए. उसकी शारीरिक गति में बदलाव आपको खुद ही महसूस करना होगा.
भाव भंगिमाएं होती हैं अलग
चेष्टा से मतलब सामने वाले की मंशा को समझने से है. जब व्यक्ति कुछ छिपाने की चेष्टा करता है तो उसकी भाव भंगिमाएं और हरकतें अलग होती हैं. इन पर गौर करके आप उसके झूठ को पकड़ सकते हैं.
शारीरिक मुद्राओं में बदलाव
कुछ लोगों की सामान्य आदत होती है कि वे बातचीत के दौरान हाथ या पैर हिलाते हैं, वहीं कुछ लोग क्रॉस लेग करके बैठ जाते हैं. लेकिन ऐसे लोग जब झूठ बोलते हैं तो उनकी सामान्य आदतों में बदलाव होता है. इसे ही संकेत कहा गया है. जब आप किसी व्यक्ति की सामान्य आदतों में बदलाव देखें तो समझ लें कि कहीं कुछ गड़बड़ है.
आंखों से समझें
आप सामने वाले की आंखों को ध्यान से देखें आपको अंदाजा लग जाएगा कि वो सच्चा है या झूठा. एक झूठा व्यक्ति या तो आपसे नजर चुराएगा या फिर उसकी आंखें एक जगह स्थिर नहीं होंगी. वो बात करते समय इधर-उधर देखेगा.
चेहरे के भाव
चेहरे से भी व्यक्ति का सच और झूठ पता चलता है. कई बार लोगों के चेहरे के भाव बता देते हैं कि वे सच बोल रहे हैं या झूठ. इन सब बातों को समझने के लिए आपको खुद में बहुत सतर्क रहना होगा.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it