धर्म-अध्यात्म

मांगलिक दोष से मिलती है मुक्ति,बजरंग बाण का पाठ करे उपाय

Kunti Dhruw
10 Dec 2020 3:20 PM GMT
मांगलिक दोष से मिलती है मुक्ति,बजरंग बाण का पाठ करे उपाय
x
हर युग में हनुमान जी का एक विशिष्ट स्थान है यह तो सर्वविदित है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क : हर युग में हनुमान जी का एक विशिष्ट स्थान है यह तो सर्वविदित है। हर युग में उन्होंने अपने भक्तजनों का कल्याण किया है। कलयुग के इस समय में भी हनुमान जी अपने भक्तों की हर संकट से रक्षा करते हैं और उनकी हर समस्या का समाधान करते हैं। विनय पत्रिका के पद संख्या 30 में गोस्वामी जी ने लिखा है कि जिस पर हनुमान जी की कृपा रहती है उसपर माता पार्वती, भगवान शिव, लक्ष्मण, प्रभु राम एवं माता सीता की भी कृपा रहती है। हनुमान जी की कृपा पाने के लिए लोग हनुमान चालीसा का पाठ तो करते ही हैं साथ ही अगर बजरंग बाण का पाठ भी किया जाए तो व्यक्ति को अपने जीवन की कई समस्याओं से मुक्ति मिल जाती है। तो चलिए जानते हैं कि बजरंग बाण का पाठ कितना लाभकारी है।

मांगलिक दोष निवारण

किसी की कुंडली में मांगलिक दोष होने पर उसके विवाह में बहुत परेशानियां आती हैं। इसलिए मांगलिक दोष का निवारण आवश्यक होता है। किसी की कुंडली में मांगलिक दोष हो तो उसे नियमित रूप से मंगलवार के दिन बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। अगर नियमपूर्वक निष्ठा के साथ बजरंग बाण का पाठ किया जाए, तो इससे मांगलिक दोष का निवारण जल्द हो सकता है।

राहु-केतु के बुरे प्रभावों से मुक्ति

राहु-केतु को ज्योतिष में छाया ग्रह माना गया है। यह दोनों ही ग्रह पापक ग्रह कहलाते हैं। जिस व्यक्ति पर भी राहु-केतु की महादशा होती है उसे अनेक कष्टों का सामना करना पड़ता है। राहु और केतु की महादशा होने पर भी बजरंग बाण का पाठ करना लाभप्रद रहता है।

ग्रह दोष निवारण के लिए

कुंडली में ग्रहों की खराब स्थिति के कारण व्यक्ति को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कुंडली में व्याप्त किसी भी प्रकार का ग्रह दोष होने पर नियमित रूप से सूर्योदय से पूर्व उठकर हनुमान जी के सामने आटे का दिया बनाकर जलाना चाहिए और बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। ऐसा नियमित रूप से करने पर आप कुंडली में मौजूद दोषों से होने वाले बुरे प्रभाव से मुक्ति मिलती है। ग्रह दोष भी दूर हो सकते हैं

गंभीर रोगों से निजात पाने के लिए

किसी भी प्रकार की गंभीर बीमारी में भी बजरंग बाण का पाठ करना लाभप्रद माना जाता है। रोगों से निजात पाने के लिए राहुकाल में हनुमान जी को 21 पान के पत्तों की माला चढ़ानी चाहिए साथ में बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए और इस दौरान घी के दीया भी अवश्य जलाना चाहिए।

वास्तुदोष दूर करने के लिए

जब हम घर में निर्माण करवाते समय वास्तु का ध्यान नहीं रखते हैं या फिर अन्य कारणों से घर में वास्तुदोष होने पर व्यक्ति को जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। वास्तु दोष दूर करने के लिए नियमित रूप से प्रतिदिन तीन बार बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। इससे आपके वास्तुदोष दूर हो सकते हैं। घर में वास्तु दोष होने पर पंचमुखी हनुमान जी की मूर्ति स्थापित करना चाहिए। इससे भी वास्तु दोष से मुक्ति मिलती है।

कार्यक्षेत्र में सफलता प्राप्ति करने लिए

कार्यक्षेत्र में आने वाली किसी प्रकार की समस्याओं को दूर करने के लिए भी बजरंग बाण का पाठ बहुत लाभप्रद रहता है। कार्यक्षेत्र की समस्याओं को दूर करने और सफलता प्राप्त करने के लिए मंगलवार के दिन व्रत रखकर हनुमान जी की पूजा-अर्चना करने के बाद बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए साथ ही हनुमान जी को एक नारियल अर्पित करें और उस नारियल को घर लाकर किसी लाल कपड़े में लपेट कर घर के एक कोने में रख दें।

विवाहित जीवन में आने वाली बाधाएं होती हैं दूर

जिन लोगों के जीवन में विवाहित जीवन में किसी प्रकार की कोई समस्या आ रही हो, तो उन्हें कदली पेड़ के नीचे बैठकर बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। मान्यता है कि इससे वैवाहिक जीवन में आने वाली समस्याओं से निजात मिल सकती है।

बजरंग बाण का पाठ बहुत ही चमत्कारिक माना जाता है। इस पाठ को करने से आप अन्य मुसीबतो से भी निजात पा सकते हैं, लेकिन निरर्थक कार्यों के लिए बजरंग बाण का पाठ नहीं करना चाहिए।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta