धर्म-अध्यात्म

पति-पत्नी के बीच बढ़ रही दरार को कम करने के लिए करें ये काम, ये 21 दिन हैं बहुत खास

Renuka Sahu
24 May 2022 3:06 AM GMT
Do this work to reduce the growing rift between husband and wife, these 21 days are very special
x

फाइल फोटो 

हिंदू धर्म में हर माह का विशेष महत्व है. हर माह किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित होता है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। हिंदू धर्म में हर माह का विशेष महत्व है. हर माह किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित होता है. हिंदी कैलेंडर के अनुसार साल के तीसरे माह ज्येष्ठ महीने की शुरुआत हो चुकी है. 17 मई से शुरू हुए ज्येष्ठ माह 14 जून को समाप्त होगा. ये पूरा माह हनुमान जी की पूजा और शनिदेव की उपासना के लिए विशेष रूप से फलदायी है. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार हनुमान जी और शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए ये माह सबसे उत्तम है. ये उनके प्रिय माह में से एक है. इसलिए इस माह में अपनी समस्याओं से निजात पाने के लिए हनुमान जी और शनिदेव की पूजा-उपासना करें.

अगर आपका दांपत्य जीवन अच्छा नहीं चल रहा, पति पत्नी के रिश्तों में दूरियां बढ़ रही हैं, परिवार में कलह कलेश से परेशान है या फिर आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है, तो ज्येष्ठ माह में मंगलवार और शनिवार के दिन ये उपाय कर लें.
बुढ़वा मंगल पर करें ये काम
- ज्येष्ठ माह में आने वाले मंगलवार को बुढ़वा मंगल या बड़ा मंगल के नाम से जाना जाता है. इस मंगल का विशेष महत्व होता है. इस दिन हनुमान जी की विधि-विधान से पूजा करें. संभव हो तो व्रत रखें, उन्हें सिंदूर का लेप लगाएं और चोला चढ़ाएं.
- इस मंगल को हनुमान जी को मगध के लड्डू या हलवा पूरी का भोग लगाएं. हनुमान चालीसा का दान करें. साथ ही, जल से भरा घड़ा दान करें.
- ज्येष्ठ माह में आने वाले मंगलवार के दिन गरीबों को भोजन कराएं. ऐसा करने से संकटमोचन हनुमान भक्तों के सभी दुख दूर करेंगे. साथ ही, जातक का मंगल मजबूत होगा.
ये भी पढ़ें- Vishnu Puran: अकाल मृत्यु को लेकर विष्णु पुराण में की गई है ये भविष्यवाणी, वर्तमान में हो रही हैं सच, जानकर हो जाएंगे हैरान
ज्येष्ठ माह के शनिवार को करें ये काम
- ज्येष्ठ माह में आने वाले शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करनी चाहिए. मान्यता है कि इस माह में आने वाली अमावस्या के दिन शनि देव का जन्म हुआ था. इस बार शनि जयंती 30 मई के दिन मनाई जाएगी.
- इस दिन शनि जयंत के दिन सोमवती अमावस्या भी है. इस दिन पितरों का तृपण करने से पितर प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते हैं.
- शनिवार के दिन शनि की साढ़े साती, ढैय्या और दशा से जूझ रहे लोग काले तिल, काले कपड़े, उड़द चने की दाल, दान करें.
- शनि की दशा से पीड़ित लोगों को शनि जयंती के दिन ये उपाय जरूर करने चाहिए. ऐसा करने से उन्हें जल्द राहत मिलेगी.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta