धर्म-अध्यात्म

चाणक्य ने घबराहट को दूर करने की सलाह दी है, काम में बाधा आना है स्वाभाविक

Tulsi Rao
25 Nov 2021 4:05 PM GMT
चाणक्य ने घबराहट को दूर करने की सलाह दी है, काम में बाधा आना है स्वाभाविक
x
आचार्य चाणक्य की नीति का पालन कर साधारण व्यक्ति भी जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकता है. साथ ही धोखा खाने से बच सकता है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। Chanakya Niti: हर कोई अपने जीवन में एक सफल इंसान बनने का सपना देखता है. इसके लिए वह बड़े-बुजुर्गों से सलाह भी लेता है. कई बार बहुत कोशिश करने पर भी धोखा मिल जाता है. इससे बचने के लिए चाणक्य नीति हर इंसान के काम आ सकती है. आचार्य चाणक्य की नीति का पालन कर साधारण व्यक्ति भी जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकता है. साथ ही धोखा खाने से बच सकता है. आज हम आपको चाणक्य नीति की उन पांच बातों को बता रहे हैं, जिसे अपनाकर कोई भी धोखा खाने से बच सकता है.

परिस्थिति का डटकर सामना
काम में बाधा आना लाजमी है, लेकिन इसकी अधिकता के कारण लोग घबरा जाते हैं. इस घबराहट को दूर करने के लिए चाणक्य ने सलाह दी है बाधाओं से डटकर सामना करना चाहिए. चाणक्य नाति के मुताबिक घबराकर किसी समस्या से हार मान लेना कायरता की निशानी है.
दूसरों की गलतियों से सीखें
चाणक्य का कहना है कि मनुष्य को दूसरों की गलतियों से भी सीख लेकर आगे बढ़ना चाहिए. ऐसा इसलिए कि जब इंसान दूसरों की गलतियों से सीखता है तो खुद से गलती होने की संभावना कम हो जाती है.
मेहनत के साथ उचित रणनीति
जीवन में सफल होने के लिए मेहनत के अतिरिक्त उचित रणनीति भी बेहद महत्व रखती है. चाणक्य के अनुसार उचित रणनीति बनाकर लक्ष्य की ओर बढ़ने से लक्ष्य पाना आसान हो जाता है.
भूल में सुधार
चाणक्य नीति के मुताबिक भूल इंसान की प्रकृति है. भूल किसी भी प्रकार की हो सकती है. मनुष्य को चाहिए कि वह परिस्थिति में अपनी भूल सुधार करने के लिए तैयार रहे. ऐसा करने से जीवन में आने वाली अनेक प्रकार की धोखाओं से आसानी से पार पाया जा सकता है.
काम में लागाएं पूरी ऊर्जा
कई बार इंसान काम की शुरुआत तो पूरी ऊर्जा के साथ करता है, लेकिन कुछ ही समय बाद काम से ऊब जाते हैं. जिस कारण काम पर निगेटिव इंपैक्ट पड़ता है. इसलिए चाणक्य कहते हैं कि काम में सफलता के लिए इंसान को हर काम में पूरी ऊर्जा लगानी चाहिए.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it