खेल

धोनी की विरासत को हमेशा याद रखेगी क्रिकेट की दुनिया : बाबर आजम

Janta se Rishta
18 Aug 2020 8:30 AM GMT
धोनी की विरासत को हमेशा याद रखेगी क्रिकेट की दुनिया : बाबर आजम
x

  • जनता से रिश्ता वेबडेस्क| पाकिस्तान टीम के सीमित ओवरों के कप्तान बाबर आजम ने मंगलवार को कहा है कि भारतीय टीम के महान विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धौनी ने जो विरासत छोड़ी है, उसे दुनिया हमेशा याद रखेगी। बाबर आजम का ये बयान उस समय आया है जब एमएस धौनी ने अपने 16 साल के इंटरनेशनल करियर को 15 अगस्त को अलविदा कहा है। धौनी ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए संन्यास की घोषणा की थी।

बाबर आजम ने एमएस धौनी को लेकर ट्वीट किया है। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा है, "उल्लेखनीय करियर के लिए एमएस धौनी आपको बधाई क्रिकेट जगत में आपके नेतृत्व, लड़ाई की भावना और विरासत को हमेशा याद किया जाएगा। मैं आपके जीवन के हर पहलू में पर्याप्त प्रकाश और चमक की कामना करता हूं।" धौनी ने इंस्टाग्राम पर संन्यास का ऐलान करते हुए लिखा था कि भरपूर प्रेम और समर्थन के लिए आप सभी का धन्यवाद। मुझे 7 बजकर 29 मिनट के बाद रिटायर समझा जाए।

साल 2004 में इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखने वाले महेंद्र सिंह धौनी ने अपना आखिरी मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप 2019 के दौरान खेला था। ये मुकाबला वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल था, जिसमें भारत को करीबी हार का सामना करना पड़ा था। इस मैच में धौनी 50 रन बनाकर आउट हो गए थे और टीम इंडिया टूर्नामेंट से बाहर हो गई थी। धौनी इसके बाद से इंटरनेशनल क्रिकेट में नजर नहीं आए और फिर एकाएक वनडे और टी20 क्रिकेट से भी दूरी बनाने का फैसला कर लिया।

एमएस धौनी ने जैसे ही संन्यास का ऐलान किया। कुछ ही मिनटों के बाद सुरेश रैना ने भी उनको ज्वाइन किया और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। धौनी की महानता किसी से छिपी नहीं है। उन्होंने देश को साल 2007 में टी20 विश्व कप, साल 2011 में वनडे वर्ल्ड कप और साल 2013 में आइसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जिताया था। इस तरह धौनी दुनिया के एकमात्र कप्तान बने थे, जिन्होंने तीनों आइसीसी ट्रॉफियां देश को दिलाई थीं।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it