Top
विश्व

अंतरिक्ष में वर्चस्व स्थापित करने में जुटा चीनी, सेना के हाथ में है अंतरिक्ष कार्यक्रमों की कमान

Janta se Rishta
31 Aug 2020 3:01 PM GMT
अंतरिक्ष में वर्चस्व स्थापित करने में जुटा चीनी, सेना के हाथ में है अंतरिक्ष कार्यक्रमों की कमान
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | हांगकांग,सेना के आधुनिकीकरण के साथ-साथ चीन अंतरिक्ष में भी वर्चस्व स्थापित करने में जुटा है। 2018 और 2019 में बड़ी संख्या में अंतरिक्ष अभियानों के बाद इस साल भी चीन अब तक 22 यान अंतरिक्ष में भेज चुका है। इस साल उसकी योजना 40 अंतरिक्ष अभियान की है।

चीनी सेना के हाथ में है अंतरिक्ष कार्यक्रमों की कमान

इस सबके बीच सबसे अहम बात, जिसे चीन स्वीकार नहीं करता है, वह यह है कि उसके महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रमों की लगाम सेना यानी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के हाथ में है।

पिछले साल चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रमों का अनुमानित बजट आठ अरब डॉलर था

पिछले साल चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रमों का अनुमानित बजट आठ अरब डॉलर (करीब 60,000 करोड़ रुपये) था। इस मामले उससे आगे केवल अमेरिका है। पिछले साल उसने चांद के दूसरी ओर अपना चांग ई-4 रोवर लैंड कराया था। इस अभियान ने उसे अंतरिक्ष के क्षेत्र में अग्रणी देशों में शुमार कराया। 23 जून को चीन ने अपना बीडू सेटेलाइट लांच किया है।

30 बीडू सेटेलाइट के दम पर चीन पूरी दुनिया में लोकेशन रिपोर्टिग में सक्षम हो गया

सामान्य एवं सैन्य प्रयोग के लिए तैयार किए जा रहे नेविगेशन सिस्टम को पूरा करने की दिशा में यह उसका अंतिम सेटेलाइट था। इस समय कक्षा में कुल 30 बीडू सेटेलाइट हैं। इनके दम पर चीन पूरी दुनिया में रियल टाइम नेविगेशन एवं लोकेशन रिपोर्टिग में सक्षम हो गया है। इससे पीएलए को खासी मदद मिल रही है

अंतरिक्ष अभियानों के पीछे चीन का लक्ष्य एक मजबूत शक्ति बनना है

हेरिटेज फाउंडेशन के सीनियर रिसर्च फेलो डीन चेंग ने अमेरिकी थिंक टैंक जेम्सटाउन फाउंडेशन के एक वेबिनार में कहा था कि अंतरिक्ष अभियानों के पीछे चीन का लक्ष्य एक मजबूत शक्ति बनना है। चीन मानता है कि सैन्य शक्ति अहम है, लेकिन सिर्फ इसके दम पर ही महाशक्ति नहीं बना जा सकता है। राजनीतिक एकता, आर्थिक शक्ति और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी जैसे कई घटक इसमें भूमिका निभाते हैं। इसी सोच के साथ चीन अंतरिक्ष अभियानों पर जोर दे रहा है। अंतरिक्ष अभियानों से जुड़ा उद्योग अर्थव्यवस्था में भी मदद दे सकता है। चीन सेटेलाइट लांच जैसी सेवाएं भी दे रहा है।

चीन ने तेज की अंतरिक्ष अभियानों की गति

अंतरिक्ष में अन्य देशों की गतिविधियों को बाधित करने के लिए चीन ने सेटेलाइट जैमर और एंटी सेटेलाइट की दिशा में भी तेजी से काम किया है। अंतरिक्ष अभियानों को लेकर चीन की गोपनीयता भी दुनिया के लिए चिंता का विषय है।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it