भारत

वैश्विक कोविड-19 मृत्यु दर को लेकर WHO प्रमुख ने किया आगाह, जानें क्‍या कहा?

Kunti
14 Oct 2021 6:50 PM GMT
वैश्विक कोविड-19 मृत्यु दर को लेकर WHO प्रमुख ने किया आगाह, जानें क्‍या कहा?
x
कोविड महामारी से जूझ रही दुनिया के लिए यह खबर उम्मीदों को मजबूती देने वाली है।

जेनेवा, कोविड महामारी से जूझ रही दुनिया के लिए यह खबर उम्मीदों को मजबूती देने वाली है। दुनियाभर में कोविड महामारी के कारण हर हफ्ते हो रही मौतों के आंकड़ों में लगातार गिरावट आने लगी है और अब साप्ताहिक कोरोना मृत्यु दर करीब एक वर्षों के न्यूनतम स्तर पर पहुंच चुकी है। टीएएसएस के अनुसार, इस आशय की घोषणा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) प्रमुख टेड्रोस एधनोम घेब्रेयेसुस ने बुधवार को जेनेवा में एक पत्रकार वार्ता के दौरान की।


किया आगाह, यूरोप के कई देश कर रहे नई लहर का सामना

टेड्रोस ने कहा, 'कोविड से होने वाली मौतों में लगातार गिरावट आ रही है और अब यह साल के निम्नतम स्तर पर पहुंच गई है। हालांकि, अब भी हर हफ्ते करीब 50 हजार मामले आ रहे हैं, जो कतई स्वीकार्य नहीं हैं। वास्तविक आंकड़े निश्चित तौर पर ज्यादा होंगे। यूरोप को छोड़कर बाकी सभी क्षेत्रों में मृत्यु दर में कमी आ रही है। फिलहाल यूरोप के कई देश कोरोना की नई लहर का सामना कर रहे हैं।'
रूस में उच्चतम स्तर पर पहुंची मृत्‍यु दर

एपी के अनुसार, रूस में गुरुवार को दैनिक कोरोना संक्रमण के मामलों व इससे होने वाली मौतों का आंकड़ा उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। पिछले 24 घंटे के दौरान वहां 31,299 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए, जबकि 986 लोगों की मौत हो गई। टीकाकरण की धीमी गति व कोविड नियमों में ढिलाई की वजह से हाल के दिनों में रूस में कोविड मामलों में लगातार उछाल आ रहा है। उधर, इटली में कोरोना के 2,688 नए मामले आए, जबकि 40 की मौत हो गई। ब्रिटेन में कोविड के 45,066 नए मामले आए और 157 की मौत हो गई।
कोरोना की उत्‍पत्ति के लिए बनाई समिति

इस बीच डब्ल्यूएचओ ने कोरोना वायरस के मूल का पता लगाने के लिए एक नई समिति गठित की है। इसके सदस्यों के रूप में दुनियाभर के 26 विज्ञानियों के नाम प्रस्तावित किए हैं। इनमें चीन की वुहान लैब की जांच करने वाली पहली टीम के सदस्य भी शामिल हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि सार्स-कोव-2 वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए यह आखिरी मौका हो सकता है। डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस ने कहा कि महामारी से जुड़े शुरुआती आंकड़े नहीं मिलने से पहली जांच प्रभावित हुई।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it