भारत

जंग हो या बचाव अभियान वायु सेना के बड़े काम आता है रूस में निर्मित Mi-17 हेलिकॉप्टर, अब इजरायली एंटी टैंक मिसाइल भी तैनात होगा

jantaserishta.com
24 April 2022 11:15 AM GMT
जंग हो या बचाव अभियान वायु सेना के बड़े काम आता है रूस में निर्मित Mi-17 हेलिकॉप्टर, अब इजरायली एंटी टैंक मिसाइल भी तैनात होगा
x

नई दिल्ली: भारत अपने रूसी एमआई-17 हेलिकॉप्टर पर इजरायली एंटी टैंक मिसाइल तैनात कर रहा है. दुश्मन की बख्तरबंद रेजीमेंटों के खिलाफ अपनी मारक क्षमता बढ़ाने की दिशा में एक कदम बढ़ाते हुए भारत अपने एमआई-17 हेलिकॉप्टरों में इजरायल की लंबी दूरी की टैंक रोधी मिसाइलें तैनात कर रहा है. यह दुश्मन के ठिकानों को 30 किमी से भेद सकता है. सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि इजरायली स्पाइक नॉन लाइन ऑफ साइट (NLOS) एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों को रूसी एमआई -17 हेलिकॉप्टरों पर तैनात किया जा रहा है, जो पहाड़ी इलाकों में उड़ान भर सकते हैं और अगर लक्ष्य दिखाई न भी दे तो 30 किलोमीटर की दूरी पर हमला कर सकते हैं.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने बताया कि मिसाइलें देश में पहले ही पहुंच चुकी हैं और उन्हें पश्चिमी क्षेत्र में एमआई-17 पर तैनात किया जा रहा है. भारतीय सशस्त्र बल ने रूस यूक्रेन जंग से सीखा है और इसे अपने वहां लागू कर रहे हैं, जहां टैंक और एंटी टैंक मिसाइल बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जा रहे हैं.
सूत्रों ने कहा कि अब तक चल रहे संघर्ष में टैंक रोधी मिसाइलों को बढ़त मिली है, जहां यूरोपीय देश यूक्रेनी सेना को बड़ी संख्या में एंटी टैंक और एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइलों की आपूर्ति कर रहे हैं. भारत इन सशस्त्र हेलिकॉप्टरों को लद्दाख और आसपास के क्षेत्रों में ऊंचे पहाड़ी इलाकों में भी तैनात कर सकता है, जहां चीनियों ने बड़ी संख्या में अपनी बख्तरबंद रेजिमेंटों को तैनात किया है.

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta