भारत

कोरोना की तीसरी लहर के साइड इफेक्ट, खत्म नहीं हुआ है ब्लैक फंगस, 20 से ज्यादा मरीज भर्ती

jantaserishta.com
16 Feb 2022 5:05 AM GMT
कोरोना की तीसरी लहर के साइड इफेक्ट, खत्म नहीं हुआ है ब्लैक फंगस, 20 से ज्यादा मरीज भर्ती
x
दूसरी लहर जितना घातक नहीं ब्लैक फंगस।

नई दिल्ली: राजस्थान (Rajasthan) में कोरोना की तीसरी लहर (covid-19 third wave) में नए ममलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है लेकिन कोरोना के साइड इफेक्ट्स का खतरा अभी बना हुआ है. पहली और दूसरी लहर के बाद देशभर ने ब्लैक फंगस (black fungus) (म्यूकोमाइकोसिस) की भयावहता देखी है. इसी तरह अब तीसरी लहर के धीरे होने पर ब्लैक फंगस के केस सामने आने लगे हैं. राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (cm ashok gehlot) ने भी मंगलवार को विधानसभा में ब्लैक फंगस की खतरे का अनुभव शेयर किया था. फिलहाल राजस्थान के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल (sms hospital jaipur) में नाक, कान, गला (ईएनटी) विभाग के आंकड़े ब्लैक फंगस के नए मामलों की तस्दीक कर रहे हैं.

भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले डेढ़ महीने में ब्लैक फंगस के 20 नए मामले मिले हैं. हालांकि राहत भरी बात यह है कि इनमें से कोई भी मामला गंभीर नहीं है. वर्तमान में एसएमएस में ब्लैक फंगस के 7 मरीजों का इलाज चल रहा है वहीं 13 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है.
दूसरी लहर जितना घातक नहीं ब्लैक फंगस
रिपोर्ट के मुताबिक डॉ. पवन सिंघल का कहना है कि इस बार ब्लैक फंगस के मामले ज्यादा गंभीर नहीं हैं. डॉ के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर में सामने आए ब्लैक फंगस के केस जितना गंभीर अभी तक कोई केस नहीं आया है. डॉ का यह भी कहना है कि डेल्टा वैरिएंट के दौरान कोरोना मरीजों को इलाज के दौरान स्टेरॉयड दिया गया जिसकी वजह से फंगस के मरीज तेजी से फैलने लगे.
दूसरी लहर में मिले थे 700 मामले
बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट से ग्रसित मरीजों में ब्लैक फंगस के मामले देखने को मिले थे. आंकड़ों के मुताबिक इस दौरान जून-जुलाई से अक्टूबर तक 700 से ज्यादा म्यूकोमाइकोसिस के मरीज मिले. इन मरीजों में मुंह, आंख के अलावा दिमाग में फंगस की शिकायत देखी गई.
वहीं अब डॉक्टरों का कहना है कि तीसरी लहर में अब नए मिलने वाले केस में पुराने म्यूकोमाइकोसिस से प्रभावित मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि पिछले 2 महीनों में करीब 80 ऐसे मरीज मिले हैं जिन्हें दोबारा ब्लैक फंगस की शिकायत हुई है. गौरतलब है कि बुधवार से राजस्थान सरकार ने कोरोना संबंधी सभी तरह की गाइडलाइन को हटा लिया है. राज्य के गृह विभाग की ओर से जारी नई गाइडलाइन के मुताबिक प्रदेशभर में आज से पहली से पांचवीं तक के बच्चों के स्कूल खुले हैं.

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta