भारत

ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के नाम पर हड़पे 10 लाख रुपये, जांच में जुटी पुलिस

Janta Se Rishta Admin
14 Oct 2021 4:02 PM GMT
ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के नाम पर हड़पे 10 लाख रुपये, जांच में जुटी पुलिस
x
FIR दर्ज

लखनऊ। कोविड के दौरान ब्लैक फंगस के इलाज के लिए डॉक्टरों ने एमफोटेरिसिन इंजेक्शन को स्वीकृत किया था। गोमतीनगर के रत्नाकर शुक्ल ने दोस्त के इलाज के लिए इस इंजेक्शन को खरीदने के लिए दो लोगों से सम्पर्क किया था। जिन्होंने दस लाख रुपये लेने के बाद भी इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराए, जिससे मरीज की मौत हो गई थी। रत्नाकर ने ठगों के खिलाफ गोमतीनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। विश्वासखंड-दो निवासी रत्नाकर शुक्ला के मित्र राजेश बंसल ब्लैक फंगस से ग्रसित होकर अस्पताल में भर्ती थे। हालत बिगड़ने पर उन्हें इलाज के लिए दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां डॉक्टरों ने मरीज के लिए एमफोटेरिसिन बी-50 एमजी इंजेक्शन की 75 डोज लिखी थीं। रत्नाकर के अनुसार ऐसे में राजेश बंसल के परिवार ने उनसक मदद मांगी थी। इस दौरान रत्नाकर को एक व्हाट्सएप मैसेज मिला था। जिसमें इंजेक्शन उपलब्ध कराए जाने का दावा किया गया था।

रत्नाकर के अनुसार हरदोई मल्लावां निवासी अवनीश कुमार और रायबरेली महाराजगंज निवासी आशीष कुमार ने सात जून को उनके घर आकर मुलाकात भी की थी। इसके बाद ही रत्नाकर रुपये देने को तैयार हुए थे। 75 डोज की कीमत 11 लाख 75 हजार रुपये बताई गई थी। बातचीत के बाद दस लाख में इंजेक्शन दिलाने के लिए दोनों लोग तैयार हो गए थे। रत्नाकर ने उधार लेकर रुपये आशीष और अवनीश को दिए थे। इसके बाद उन्हें इंजेक्शन नहीं मिले थे। इस बीच 28 जून को राजेश बंसल की इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद रत्नाकर ने आशीष और अवनीश से रुपये वापस मांगे, लेकिन वह लोग रुपये देने को तैयार नहीं हुए। सारे प्रयास विफल होने पर रत्नाकर ने एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव से मुलाकात कर उन्हें घटना की जानकारी दी थी। जिसके बाद अवनीश और आशीष के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया है।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it