भारत

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा- 'लक्षद्वीप समंदर में भारत का गहना, सत्ता में बैठे अज्ञानी इसे नष्ट कर रहे'

Kunti Dhruw
26 May 2021 10:15 AM GMT
राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा- लक्षद्वीप समंदर में भारत का गहना, सत्ता में बैठे अज्ञानी इसे नष्ट कर रहे
x
केंद्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप में बीफ बैन

केंद्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप में बीफ बैन, एंटी गुंडा एक्ट, पंचायत चुनावों में योग्यता, डेवलपमेंट अथॉरिटी में संशोधन जैसे प्रस्तावों को लेकर राजनीतिक दल वहां के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल का विरोध कर रहे हैं. अब राहुल गांधी ने भी इस संबंध में विरोध जताते हुए केंद्र सरकार को घेरने की किशिश की है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए लिखा कि लक्षद्वीप समंदर में भारत का गहना है. सत्ता में बैठे अज्ञानी इसे नष्ट कर रहे हैं. मैं लक्षद्वीप के लोगों के साथ खड़ा हूं.

मंगलवार को प्रियंका गांधी ने इस संबंध में 3 ट्वीट कर बीजेपी सरकार को घेरने की कोशिश की थी. प्रियंका गांधी वाड्रा ने लिखा था कि लक्षद्वीप के लोग द्वीपों की समृद्ध प्राकृतिक और सांस्कृतिक विरासत को गहराई से समझते हैं और उनका सम्मान करते हैं, जिनमें वे रहते हैं. उन्होंने हमेशा इसकी रक्षा और पोषण किया है. भाजपा सरकार और उसके प्रशासन को इस विरासत को नष्ट करने, लोगों को परेशान करने का कोई अधिकार नहीं है. लक्षद्वीप पर मनमाने ढंग से प्रतिबंध और नियम लागू करना. संवाद लोकतंत्र को कायम रखता है, लक्षद्वीप के लोगों से सलाह क्यों नहीं ली जा सकती? उनसे क्यों नहीं पूछा जा सकता कि वे क्या मानते हैं कि उनके लिए और लक्षद्वीप के लिए क्या अच्छा है? जो कुछ नहीं जानता वह ऐसा कैसे कर सकता है.

प्रियंका गांधी ने ये भी लिखा
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा था कि लक्षद्वीप की विरासत को नष्ट करने के लिए क्या अपनी शक्ति का उपयोग करने की इजाजत दी जाए? मैं लक्षद्वीप के लोगों को अपना पूरा समर्थन देती हूं. मैं हमेशा आपके साथ खड़ी रहूंगी और विरासत की रक्षा के आपके अधिकार के लिए लड़ती रहूंगी. यह एक राष्ट्रीय खजाना है, जिसे हम सभी संजोते हुए हैं.
8 बीजेपी के नेताओं ने दिया इस्तीफा
वहीं लक्षद्वीप बीजेपी यूनिट के करीब 8 नेताओं ने प्रफुल्ल पटेल के फैसलों पर विरोध जताते हुए पार्टी से इस्तीफा भी दे दिया है. जिन नेताओं ने इस्तीफा दिया है उनका आरोप है कि लक्षद्वीप प्रशासक प्रफुल्ल पटेल का फैसला मनमाना है. उनके इन फैसलों के चलते लक्षद्वीप की संस्कृति नष्ट होगी और इससे वहां की शांति व्यवस्था को भी नुकसान पहुंचेगा. विशेषज्ञों का ये भी मानना है कि आने वाले समय में पार्टी के कई और नेता भी इस्तीफा दे सकते हैं.
क्या है विरोध की वजह
लक्षद्वीप एनिमल प्रिजर्वेशन रेगुलेशन ड्राफ्ट के तहत कोई भी व्यक्ति प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से बीफ या बीफ उत्पादों को लक्षद्वीप में कहीं भी बेच, खरीद, स्टोर या उसका ट्रांसपोर्ट नहीं कर सकता है.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta