भारत

मानवाधिकार को लेकर अमेरिकी नसीहत पर विदेश मंत्री ने दिया करारा जवाब, बोले- उन्हें अपने गिरेबान में झांकने की जरुरत

jantaserishta.com
14 April 2022 2:38 AM GMT
मानवाधिकार को लेकर अमेरिकी नसीहत पर विदेश मंत्री ने दिया करारा जवाब, बोले- उन्हें अपने गिरेबान में झांकने की जरुरत
x

नई दिल्ली: भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बताया कि भारत और अमेरिका के बीच हुई 2+2 वार्ता में मानवाधिकार मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई. हालांकि, उन्होंने कहा, जब भी इस मुद्दे पर चर्चा होगी, भारत अपनी राय रखने में नहीं हिचकिचाएगा. एस जयशंकर ने कहा कि लोग भारत के बारे में विचार रख सकते हैं. उन्होंने कहा, अमेरिका समेत अन्य देशों में मानवाधिकारों के हालात पर भारत भी नजर रखता है.

इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा था कि US भारत में हुईं कुछ हालिया घटनाओं पर नजर रख रहा है. भारत में कुछ राज्यों, पुलिस और जेल के अधिकारियों द्वारा मानवाधिकारों के हनन में वृद्धि हुई है.
भारत और अमेरिका के बीच 2 + 2 बातचीत के बाद ब्लिंकन, एस जयशंकर, राजनाथ सिंह और अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया था. इस दौरान मानवाधिकार से जुड़े सवाल पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई. एस जयशंकर ने कहा कि हमने इस बैठक में मानवाधिकार के मुद्दे पर चर्चा नहीं की. यह बैठक मुख्य रूप से राजनीतिक-सैन्य मामलों पर बातचीत के लिए थी.
एस जयशंकर ने कहा, जब ब्लिंकन भारत आए थे, तब यह मुद्दा सामने आया था. मुझे लगता है कि अगर आप उस प्रेस वार्ता को याद करते हैं, तो मैं बता दूं कि हमने इस मुद्दे पर चर्चा की थी और हमने अपनी बात रखी थी. भारत में मानवाधिकारों की अमेरिकी आलोचना पर विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि लोगों को भारत के बारे में विचार रखने का अधिकार है. उन्होंने कहा, एक तरह की लॉबी और वोट बैंक इस तरह के मुद्दों को आगे लाती है.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta